सुनहरा बचपन  - डॉक्टर अरविंद जैन भोपाल

सुनहरा बचपन
 - डॉक्टर अरविंद जैन भोपाल



पचपन में बचपन को याद करना
, सुखद अनुभूति नहीं होगी?
 क्या भूलूं ?क्या याद करूं?
 रोना-धोना तो याद नहीं
 पर उधम करना सीढ़ियों से
 उतरना चढ़ना दौड़ना ,
अपने सामान को पकड़ कर रखना 
ना किसी को देना ,
एकाधिकार का भाव ,
कब रूठना कब झगड़ना कब मिलना ,
पता नहीं चलता 
थोड़े से बहकावे मे, 
अपनी मांग भूल जाना 
कैसे कोरी स्लेट पर पेंसिल से,
 अपनी कल्पना को उतारना 
खाने की थाली मैं झपट कर ,
सबके साथ खाना 
मुंह छपाना , कभी काकी कभी भाभी ने खिलाया ,
मन के कपड़े  दिन भर लिए घूमना 
कान पकड़ में आया स्कूल जाना शुरू
 उसके बाद पीछे न मुड़ना
 कभी ना जाने का बहाना 
कभी किसी जिद पूरी कराना
 कब बीत गया वह समय,
 खेल खेल में



डॉक्टर अरविंद जैन भोपाल


9425006753


Popular posts
उत्तराखंड के चारधाम / बद्रीनाथ को रोज चढ़ाई जाती है बद्रीतुलसी, यहां के बामणी गांव के लोग बनाते हैं ये माला
कोरोना इफेक्ट / एमिरेट्स एयरलाइंस ने 600 पायलटों और 6500 केबिन क्रू को निकाला, सितंबर तक कर्मचारियों की सैलरी में 50% कटौती जारी रहेगी
प्रसिद्ध समाजसेवी डॉ योगेश दुबे मुंबई की राजकुमार सोनी से बातचीत
Image
IIT गांधीनगर की रिसर्च / भारत में नाले के गंदे पानी में कोरोनावायरस होने के प्रमाण मिले, देश में इस तरह की यह पहली रिसर्च हुई
अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव / अश्वेतों की नाराजगी भुनाने में जुटे डेमोक्रेटिक उम्मीदवार जो बिडेन, युवाओं को लुभाने के लिए डिजिटल कैंपेन भी चलाएंगे