1 जून से फिर शुरू होगा सफर / भोपाल में हबीबगंज स्टेशन से चलेंगी भोपाल एक्सप्रेस और जनशताब्दी, डेढ़ घंटे पहले पहुंचना होगा स्टेशन

1 जून से फिर शुरू होगा सफर / भोपाल में हबीबगंज स्टेशन से चलेंगी भोपाल एक्सप्रेस और जनशताब्दी, डेढ़ घंटे पहले पहुंचना होगा स्टेशन





एक जून से दो महीने से अधिक समय से बंद ट्रेनों का नियमित संचालन शुरू होगा। भोपाल रेलवे स्टेशन पर एक जून को लेकर तैयारियां लगभग पूरी हो गई हैं।






  • स्टेशनों पर फूड काउंटर खुलेंगे लेकिन सिर्फ पैकेट बंद खाना मिलेगा, एसी बोगियों में नहीं मिलेंगे बेडरोल

  • हर प्लेटफार्म पर एक से दो काउंटर खोले जा सकेंगे, भोपाल मंडल से चलेंगी 48 ट्रेनें, राजधानी में 26 को मिलेगा स्टॉपेज


भोपाल. लॉकडाउन के दो महीने बाद एक बार फिर 1 जून से रेलवे नियमित ट्रेनों का संचालन शुरू करने जा रहा है। यात्रियों को सफर के लिए कन्फर्म टिकट लेना तो जरूरी होगा ही, साथ ही रेलवे द्वारा जारी गाइडलाइन का पूरी तरह से पालन करना होगा। सफर के दौरान यात्रियों को चेहरे पर मास्क लगाना अनिवार्य होगा, स्टेशन पर ट्रेन के टाइम से डेढ़ घंटे पहले पहुंचना होगा।


भोपाल और हबीबगंज रेलवे स्टेशन पर मेडिकल इमरजेंसी सेवा उपलब्ध रहेगी। स्टेशन पर आने और बाहर जाने के गेट अलग-अलग होंगे। भोपाल मंडल से 48 ट्रेनों का आवागमन होगा। इसमें भोपाल और हबीबगंज में 26 ट्रेनों को स्टॉपेज दिया जाएगा। साथ ही, हबीबगंज से जनशताब्दी और भोपाल एक्सप्रेस का संचालन किया जाएगा। ये ट्रेनें पहले जैसे ही नियमित रूप से चलेंगी। स्टेशन पर प्लेटफार्म टिकट नहीं मिलेंगे। रेलवे ने कहा है कि सफर के दौरान कम से कम सामान लेकर यात्रा करें।


स्टेशन पर खुलेंगे फूड काउंटर, लेकिन पैकेट बंद सामान ही मिलेगा
रेलवे स्टेशन पर फूड काउंटर भी खोले जाएंगे। काउंटर पर केवल पैकेट बंद ही खाने की चीजें यात्रियों को दी जाएंगी। किसी भी तरह का खुला हुआ सामान इन काउंटरों से नहीं बेचा जाएगा। हर प्लेटफार्म पर 1-2 की संख्या में ही फूड काउंटर खोले जाएंगे। फूड काउंटर पर भी बहुत कम संख्या में ही दुकानदार बैठ सकेंगे। उन्हें सफाई का विशेष ध्यान रखते हुए हाथों में ग्लब्ज पहनने होंगे। साथ ही अन्य सुविधाओं जैसे रेलवे द्वारा पानी का वितरण के साथ वेटिंग रूम भी खोल दिए गए हैं। हालांकि यहां यात्रियों को सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए बैठना होगा। 


65 साल से अधिक और 10 साल से कम उम्र के बच्चे यात्रा से बचें : एडवाइजरी 
ट्रेन में बीते कुछ दिनों से हो रही घटनाओं को देखते हुए भारत सरकार ने रेल मंत्रालय को एडवाइजरी जारी की है। इसके मुताबिक, पहले से बीमार (जैसे उच्च रक्तचाप, मधुमेह, हृदय रोग, कर्करोग, कम प्रतिरक्षा) वाले व्यक्ति, गर्भवती महिलाएं, 10 वर्ष से कम उम्र के बच्चे एवं 65 वर्ष से अधिक उम्र के बुजुर्ग अपने स्वास्थ्य और सुरक्षा के लिए, जब तक बहुत जरूरी न हो, रेल यात्रा करने से बचें।


भोपाल मंडल में 48 ट्रेनों का स्टॉपेज 
200 स्पेशल ट्रेनों में से 48 गाड़ियां भोपाल मंडल होकर चलेंगी। जिसमें से 44 यात्री गाड़ियां भोपाल मंडल से होकर गुजरेंगी। इसके अलावा 2 ट्रेनें मंडल से शुरू होंगी और 2 गाड़ियां मंडल पर टर्मिनेट होंगी। इन सभी ट्रेनों का संचालन पूर्व में चलाई जा रही नियमित गाड़ियों के पैटर्न के समय, हाल्ट एवं फेरों के अनुसार ही किया जाएगा। ट्रेनें अपने पुराने समय और दिन के अनुसार ही चलेंगी। इनका स्टॉपेज टाइम भी पहले की तरह ही होगा।  


स्टेशन पर मेडिकल इमरजेंसी सुविधा उपलब्ध 
यात्री ट्रेन के समय के अनुसार रेलवे स्टेशन पर पहुंचे। यात्रियों को ट्रेन के शेड्यूल से डेढ़ घंटे पहले पहुंचना जरूरी होगा। सोशल डिस्टेंसिंग से लेकर चेहरे पर मास्क लगाना और सैनिटाइजर का उपयोग करना अनिवार्य होगा। स्टेशन के बाहर यात्रियों के लिए साबुन, पानी और सैनिटाइजर की व्यवस्था की गई है। कर्मचारियों की ड्यूटी जरूरत के अनुसार लगाई जाएगी। जहां तक संभव होगा, 50 वर्ष की उम्र और पहले से जिन्हें स्वास्थ्य संबंधी परेशानियां हैं, उन कर्मचारियों की ड्यूटी नहीं लगाई जाएगी। यात्रियों के लिए स्टेशन के बाहर बैठने की सुविधा और मेडिकल इमरजेंसी सेवा भी उपलब्ध होगी। - उदय बोरवणकर, डीआरएम भोपाल मंडल  


यात्रा शुरू करने से पहले ये 10 बातें जान लीजिए:



  1. स्टेशन और यात्रा के दौरान मास्क पूरे समय लगाना और सैनिटाइज करना अनिवार्य होगा।

  2. यात्रियों को लाने और ले जाने वाले वाहनों को ड्राप एंड गो के तहत एंट्री मिलेगी।

  3. स्टेशन पर पार्किंग के अलावा कहीं और गाड़ियां खड़ी नहीं की जा सकेंगी। 

  4. थर्मल स्क्रीनिंग के बाद ही यात्री को स्टेशन पर प्रवेश दिया जाएगा।

  5. ट्रेन आने के डेढ़ घंटे पहले ही यात्रियों को स्टेशन पर प्रवेश देने प्रक्रिया शुरू होगी। उसके पहले यात्रियों को स्टेशन के बाहर ही बैठना होगा। 

  6. यात्री के पास कन्फर्म टिकट होने पर ही स्टेशन पर प्रवेश दिया जाएगा। 

  7. प्रत्येक यात्रियों के मोबाइल में आरोग्य सेतु एप डाउनलोड करना आवश्यक होगा।  

  8. यदि किसी यात्री में कोविड-19 के लक्षण जैसे तेज बुखार पाए जाते है तो उसे यात्रा की अनुमति नहीं दी जाएगी। 

  9. ऐसे यात्री टिकट परीक्षक से यात्रा न करने का प्रमाण पत्र लेकर टिकट की पूरी धनराशि वापस ले सकते हैं।  

  10. वातानुकूलित कोचों में परदे नहीं लगेंगे। यात्रा के दौरान बेडरोल भी नहीं मिलेगा। यात्री अपनी व्यवस्था कर सकते हैं। 



Popular posts
उत्तराखंड के चारधाम / बद्रीनाथ को रोज चढ़ाई जाती है बद्रीतुलसी, यहां के बामणी गांव के लोग बनाते हैं ये माला
सीमा विवाद पर भारत की दो टूक / अफसरों ने कहा- चीन बॉर्डर से अपने 10 हजार सैनिक और हथियार हटाए, ऐसा होने पर ही पूरी तरह शांति कायम होगी
प्रसिद्ध समाजसेवी डॉ योगेश दुबे मुंबई की राजकुमार सोनी से बातचीत
Image
अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव / अश्वेतों की नाराजगी भुनाने में जुटे डेमोक्रेटिक उम्मीदवार जो बिडेन, युवाओं को लुभाने के लिए डिजिटल कैंपेन भी चलाएंगे
कोरोना इफेक्ट / एमिरेट्स एयरलाइंस ने 600 पायलटों और 6500 केबिन क्रू को निकाला, सितंबर तक कर्मचारियों की सैलरी में 50% कटौती जारी रहेगी