कविता - मैं बेटी ही हूँ बेटा तुम्हारा 

 कविता - मैं बेटी ही हूँ बेटा तुम्हारा 


     सुनों मम्मी पापा सुनों मेंरा कहना , 
.   ना आँखो मैं एक पल भी आँसू है लाना । 
     सदा मुस्कराना सदा मुस्कराना , 
      सुनों मम्मी पापा सदा मुस्कराना  ॥ 


      मैं अभिमान तुम्हारा तू स्वाभिमान हमारा । 
      सदा मान रखूंगी  पापा तुम्हारा , 
       तू पापा नहीँ परमेश्वर  हमारा   । 
      सुनों जीवन दाता भाग्य विधाता , 
       दिया जो ठिकाना तुमनें हमारा , 
       वो ही पापा अब है संसार हमारा । 
      सदा मान रखूँगी पापा    तुम्हारा । 
      तू पापा है सदा गुमान    हमारा । 
       मैं बेटी ही नहीँ हूँ बेटा तुम्हारा ॥ 


      सदा मम्मी पापा मुझे याद रखना । 
       मैं  बेटी  ही   हूँ   बेटा     तुम्हारा । 
      सुनों मम्मी पापा ये मेंरा है कहना , 
       सदा मुस्कराना सदा मुस्कराना ॥ 


    .  कभी जब मिलनें का मन हो तुम्हारा , 
       तो हल्के से पापा जरा मुस्कराना । 
       पल मे ही पहुँचेगा संदेशा  तुम्हारा , 
       मैं पल पल हूँ पापा हमसाया तुम्हारा । 
       मेरी रग रग मे है  खून तुम्हारा । 
 .    मैं बेटी ही नहीँ हूँ बेटा तुम्हारा .॥ 


      सदा मुस्कराना सदा मुस्कराना ।
      सुनों मम्मी पापा सदा मुस्कराना ॥ 


    निर्दोष लक्ष्य जैन 
     धनबाद 
   


Popular posts
लॉकडाउन में घर में घुस कर मध्यप्रदेश में नेत्रहीन महिला अधिकारी से रेप, परिजन दूसरे राज्य में फंसे 
उत्तराखंड के चारधाम / बद्रीनाथ को रोज चढ़ाई जाती है बद्रीतुलसी, यहां के बामणी गांव के लोग बनाते हैं ये माला
कोरोना इफेक्ट / एमिरेट्स एयरलाइंस ने 600 पायलटों और 6500 केबिन क्रू को निकाला, सितंबर तक कर्मचारियों की सैलरी में 50% कटौती जारी रहेगी
प्रसिद्ध समाजसेवी डॉ योगेश दुबे मुंबई की राजकुमार सोनी से बातचीत
Image
IIT गांधीनगर की रिसर्च / भारत में नाले के गंदे पानी में कोरोनावायरस होने के प्रमाण मिले, देश में इस तरह की यह पहली रिसर्च हुई