कोरोना पर प्रधानमंत्री / मोदी ने कहा- हमारा दुश्मन दिखाई नहीं देता; अदृश्य के साथ लड़ाई में कोरोना वॉरियर्स अडिग हैं, हमारी जीत तय

कोरोना पर प्रधानमंत्री / मोदी ने कहा- हमारा दुश्मन दिखाई नहीं देता; अदृश्य के साथ लड़ाई में कोरोना वॉरियर्स अडिग हैं, हमारी जीत तय





मोदी ने कहा कि आयुष्मान भारत योजना का दो साल से भी कम समय में एक करोड़ लोगों को फायदा मिला।






  • मोदी ने सोमवार को कर्नाटक की राजीव गांधी यूनिवर्सिटी ऑफ हेल्थ साइंस के सिल्वर जुबली कार्यक्रम का वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से उद्धाटन किया

  • प्रधानमंत्री ने कहा- कोरोना की लड़ाई में लगे फ्रंटलाइन वर्कर्स के साथ अभद्र बर्ताव और हिंसा कतई बर्दाश्त नहीं की जाएगी


नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को कर्नाटक की राजीव गांधी यूनिवर्सिटी ऑफ हेल्थ साइंस के सिल्वर जुबली कार्यक्रम का वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए उद्धाटन किया। उन्होंने कहा कि वायरस दिखाई नहीं देता, लेकिन हमारे पुलिसकर्मी, मेडिकल टीम यानी हमारे कोरोना वॉरियर्स दिखाई देते हैं। वे अडिग हैं।


यह लड़ाई दिखाई न देने वाले दुश्मन और मजबूती से जूझ रहे योद्धाओं के बीच है। इसमें हमारे मेडिकल वर्कर्स की जीत होना तय है। मैं साफ कहना चाहता हूं कि कोरोना की लड़ाई में लगे फ्रंटलाइन वर्कर्स के साथ अभद्र बर्ताव और हिंसा कतई बर्दाश्त नहीं की जाएगी।


मोदी ने यह भी कहा, ‘‘भारत में दुनिया की सबसे बड़ी हेल्थकेयर स्कीम आयुष्मान भारत चल रही है। दो साल से भी कम वक्त में इससे एक करोड़ लोगों को फायदा मिला है। इस योजना से सबसे ज्यादा फायदा महिलाओं और ग्रामीण लोगों को पहुंचा। 22 एम्स जल्द बनाने के लिए हम तेजी से मेहनत कर रहे हैं। बीते 5 सालों में हम एमबीबीएस की 30 हजार और पीजी की 15 हजार सीटें बढ़ाने में कामयाब रहे।’’


प्रधानमंत्री मोदी मंगलवार को कॉन्फेडरेशन ऑफ इंडियन इंडस्ट्री (सीआईआई) के वार्षिक सत्र को ऑनलाइन संबोधित करेंगे। वे इसके उद्घाटन सत्र में भाषण देंगे।


‘मन की बात’ में हौसला बढ़ाया, विरासत की चर्चा की
रविवार को मन की बात कार्यक्रम में मोदी ने कहा था, ‘‘हमारी सबसे बड़ी ताकत देशवासियों की सेवा है। हमारे यहां सेवा परमो धर्म कहा गया है। दूसरों की सेवा में लगे व्यक्ति में कोई डिप्रेशन नहीं दिखता। उसके जीवन में जीवंतता प्रतिपल नजर आती है। डॉक्टर, मीडिया, नर्सिंग स्टाफ, पुलिस जो सेवा कर रहे हैं, उनकी मैंने कई बार चर्चा की है। इनकी संख्या अनगिनत हैं।’’


‘‘कोरोना काल में देखा जा रहा है कि हरिद्वार से हॉलीवुड तक लोग योग अपना रहे हैं। कई लोग आयुर्वेद की तरफ लौट रहे हैं। योग कम्युनिटी, इम्युनिटी और यूनिटी के लिए बेहतर साबित हो सकता है। जब दुनिया के नेताओं से बात होती है तो उनकी दिलचस्पी योग और आयुर्वेद में होती है। देश के लोग आयात को कम होते देखना चाहते हैं। आत्मनिर्भर अभियान भारत को नई ऊंचाइयों पर ले जाएगा।’’



Popular posts
IIT गांधीनगर की रिसर्च / भारत में नाले के गंदे पानी में कोरोनावायरस होने के प्रमाण मिले, देश में इस तरह की यह पहली रिसर्च हुई
कोरोना पर मौसम का असर / नमी घटने पर वायरस हल्के और बारीक होने से हवा में बने रहते हैं, इसीलिए ठंडा मौसम ज्यादा खतरनाक
कोरोना पॉजिटिव युवती पर संक्रमण फैलाने और पिता-भाई व कजिन पर जानकारी छिपाने का केस दर्ज
Image
चैरिटी मैच / हैवीवेट बॉक्सर माइक टायसन 15 साल बाद रिंग में लौटेंगे, पैसा जुटाकर गरीबों के लिए घर बनवाएंगे
एजुकेशन / सीबीएसई 10वीं और 12वीं की कॉपियों का मूल्यांकन आज से घर से ही करेंगे टीचर, गृह मंत्रालय ने दी मंजूरी