उड़ानें शुरू करने से पहले हिदायत / केंद्र ने एयरलाइंस से कहा- 80 साल से ज्यादा उम्र वाले यात्रा नहीं करेंगे, चेक-इन के वक्त केवल एक 20 किलो का बैग ले जा सकेंगे

उड़ानें शुरू करने से पहले हिदायत / केंद्र ने एयरलाइंस से कहा- 80 साल से ज्यादा उम्र वाले यात्रा नहीं करेंगे, चेक-इन के वक्त केवल एक 20 किलो का बैग ले जा सकेंगे





वंदे भारत मिशन के तहत विदेशों में फंसे भारतीयों को लाया जा रहा है। यह तस्वीर बहरीन की है। यहां फंसे भारतीयों को मंगलवार को एयर इंडिया की फ्लाइट से देश लाया गया।






  • उड्डयन ने लॉकडाउन खत्म होने के बाद उड़ानें शुरू होने के पहले चरण के लिए एसओपी जारी की

  • स्टाफर या यात्री को विमान में यात्रा के लिए आरोग्य सेतु ऐप पर ग्रीन सिग्नल का दिखना जरूरी होगा


नई दिल्ली. लॉकडाउन खत्म होने के बाद जब उड़ानें शुरू की जाएंगी तो यात्रियों और एयरलाइंस को कुछ विशेष सावधानियां बरतनी होंगी। नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने सभी एयरलाइंस और एयरपोर्ट ऑपरेटरों को स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रोसीजर (एसओपी) जारी की है। एसओपी के मुताबिक, केंद्र ने एयरलाइंस से कहा है कि उड़ानें शुरू होने के पहले फेज में 80 साल से ऊपर के व्यक्ति को यात्रा की इजाजत ना दी जाए।

एसओपी में कहा गया कि शुरुआती चरण में केबिन में बैग ले जाने की इजाजत ना दी जाए। अगर किसी यात्री या स्टाफ में कोई लक्षण दिखाई दे रहा है और आरोग्य सेतु ऐप पर ग्रीन सिग्नल नहीं आ रहा है, तो ऐसे व्यक्ति को एयरपोर्ट टर्मिनल बिल्डिंग में दाखिल होने की इजाजत नहीं दी जाएगी।


एसओपी में ये सुझाव दिए गए हैं



  • 80 साल से अधिक उम्र के लोगों को यात्रा की अनुमति नहीं होगी। 

  • केबिन बैगेज ले जाने पर पहले चरण में पाबंदी रहेगी।  

  • यात्री अपने साथ केवल एक 20 किलो का बैग ले जा सकेगा।

  • अगर किसी भी यात्री में संक्रमण का कोई लक्षण दिखेगा तो उसे यात्रा की अनुमति नहीं होगी।  

  • यात्रियों को आरोग्य सेतु एप डाउनलोड करना अनिवार्य होगा। एप में ग्रीन सिग्नल मिलने पर ही यात्रा करने दी जाएगी। 

  • फ्लाइट में सोशल डिस्टेंसिंग रखना होगा। हालांकि इसके लिए दो सीटों के बीच एक सीट खाली रखने की बात अभी ड्राफ्ट में स्पष्ट नहीं है।  

  • लाइन लगते समय भी दूरी रखनी  होगी। 

  • ड्यूटी में लगे कर्मचारियों को पीपीई किट पहनना होगा।

  • केवल वेब चेक-इन होगा। बहुत जरूरत पड़ने पर ही प्रिंटेड बोर्डिंग पास और चेक-इन बैगेज दिए जाएंगे।

  • यात्रियों को मास्क, ग्लोव्स, जूते, पीपीई किट आदि पहनना होगा।

  • यात्रा के समय से दो घंटे पहले एयरपोर्ट पर पहुंचना होगा। 

  • फ्लाइट में आगे की तीन सीट मेडिकल इमरजेंसी वाले यात्रियों के लिए आरक्षित की जाए। 


मंत्री भी जल्द फ्लाइट शुरू करने को बोल चुके हैं


केंद्रीय नागरिक उड्यन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने पिछले दिनों देश में जल्द ही फ्लाइट सेवाएं शुरू करने की बात कही थी। उन्होंने कहा था कि सुरक्षा उपायों को ध्यान में रखते हुए जल्द ही फ्लाइट सेवा शुरू की जा सकती है। इसके लिए गाइडलाइन तैयार की जा रही है। विशेषज्ञों की राय ली जा रही है ताकि फ्लाइट सेवा शुरू होने के बाद संक्रमण ज्यादा न फैल सके।  


अभी वंदे भारत मिशन के तहत विदेशों में फंसे भारतीयों को बाहर निकाला जा रहा


मौजूदा समय कोरोना की वजह से विदेशों में फंसे भारतीयों की वतन वापसी के लिए मिशन वंदे भारत चलाया जा रहा है। 13 मई को इसका पहला फेज पूरा हो जाएगा। दूसरा फेज 16 मई से शुरू होगा। यह फेज सात दिन यानी 22 मई तक चलेगा। इस दौरान 31 देशों से 149 फ्लाइट्स आएंगी। सबसे ज्यादा 13 फ्लाइट अमेरिका से आएंगी। न्यूज एजेंसी एएनआई ने सूत्रों के हवाले से ये जानकारी दी है। वंदे भारत मिशन का पहला फेज 7 मई को शुरू हुआ था।


दूसरे फेज में किन-किन देशों से भारतीय लाए जाएंगे?
अमेरिका, यूएई, कनाडा, सऊदी अरब, ब्रिटेन, मलेशिया, ओमान, कजाकिस्तान, ऑस्ट्रेलिया, यूक्रेन, कतर, इंडोनेशिया, रूस, फिलीपींस, फ्रांस, सिंगापुर, आयरलैंड, किर्गिस्तान, कुवैत, जापान, जॉर्जिया, जर्मनी, तजाकिस्तान, बहरीन, अर्मेनिया, थाईलैंड, इटली, नेपाल, बेलारूस, नाइजीरिया, बांग्लादेश।



Popular posts
सीमा विवाद पर भारत की दो टूक / अफसरों ने कहा- चीन बॉर्डर से अपने 10 हजार सैनिक और हथियार हटाए, ऐसा होने पर ही पूरी तरह शांति कायम होगी
सीमा पर तनाव घटा / पूर्वी लद्दाख में गालवन इलाके से चीन ने सेना और बख्तरबंद गाड़ियां ढाई किमी पीछे बुलाईं, भारत ने भी जवान कम किए
टेबल टेनिस / शरत कमल ने कहा- टोक्यो ओलिंपिक में सिंगल्स में मेडल जीतना मुश्किल, पर डबल्स में मौका
Image
सिंधिया परिवार में कोरोना / ज्योतिरादित्य और उनकी मां कोरोना पॉजिटिव, दिल्ली के अस्पताल में भर्ती; परिवार के तीन सदस्यों की रिपोर्ट निगेटिव आई
IIT गांधीनगर की रिसर्च / भारत में नाले के गंदे पानी में कोरोनावायरस होने के प्रमाण मिले, देश में इस तरह की यह पहली रिसर्च हुई