टिक टॉक वीडियो से हो रही मर्यादा और संस्कृति अपमानित

टिक टॉक वीडियो से हो रही मर्यादा और संस्कृति अपमानित


हम देख रहे हैं कि इस समय चारो ओर देशी व विदेशी प्रोडक्ट्स पर ही चर्चा हो रही है। संकट की इस घड़ी में आज हर कोई स्वदेशी अपनाने की बात कर रहा है। मैं भी इससे पूर्णतः सहमत हूँ, हमे अवश्य विदेशी वस्तुओं का बहिष्कार करना चाहिए जो हमारी अर्थव्यवस्था के लिए अत्यंत आवश्यक भी है। पर क्यो न हम इस अभियान का शुभारंभ टिक टॉक एप्प से करें। 
जी हाँ टिक टॉक एप्प जिस पर बनने वाले वीडियोस आप रोज ही सोशल मीडिया पर देखते होंगे। चीन द्वारा निर्मित यह एप्प सबसे ज्यादा हमारे देश मे ही उपयोग में लिया जा रहा है। वैसे तो हम भारतीय अनेक चीनी प्रोडक्ट्स,एप्प्स व ब्रॉउसर्स का उपयोग कर चीन को भारी मुनाफा प्रदान कर रहे हैं किंतु  टिक टॉक के संदर्भ में यह बात केवल धन तक ही सीमित नही रह गई है। दरअसल इस एक एप्प  की वजह से आज हमारी मर्यादा व संस्कृति अपमानित हो रही है। जाने अनजाने में जिस तरह के वीडियोस हमारी बहने इस एप्प पर बना कर धड़ल्ले से शेयर कर रही हैं देख कर लज्जाजनक अवश्य महसूस होता है। इस प्रकार के अनर्गल हाव भाव, उल्टे सीधे नैन नक्श बनाना, अभद्रता पूर्ण तरीके से कमर व कूल्हों को मटकाना व अंग प्रदर्शन करना।  ये सब हमारे भारतीय संस्कारो व नारी की गरिमा को खराब करता है। हमारा देश, धर्म व संस्कृति प्रधान देश है जिसका इतिहास नारी जाति के एक से बढ़ कर एक चरित्रों से भरा पड़ा है। पर हमारी बहने व बेटियां तो जैसे इन सब तथ्यों से बिल्कुल अनभिज्ञ सी हो गई हैं। 
टिक टॉक पर हमारी वीरांगनाओं की ये बेहूदा अभिव्यक्तियां न केवल शर्मसार ही करती हैं बल्कि सोचने पर विवश करती हैं कि भारत जैसे देश की नारियों का मनोस्तर आज कहां से कहां पहुँच गया। 😌


आज जब हम स्वदेशी अपना रहे हैं तो मेरा समस्त महिलाओं से निवेदन है कि कृपया इसका प्रारंभ टिक टॉक से कीजिये।🙏


आप नारी शक्ति हैं, आप मर्यादा हैं, आपसे ही संस्कार जीवित हैं।
अगर आपको अभिनय, नृत्य व किसी कला में रुचि है तो सबसे पहले उस कला को समझिए फिर उसको विकसित कीजिये इसके उपरांत अपने साथ अपनी ही अभिरुचि की कुछ और महिलाओं को जोड़िए तब आप यूँ भी उसका फिल्मांकन जैसा मंचन कर सकती हैं। मुझे विश्वास है कि तब उसकी गुणवत्ता भी श्रेष्ठ होगी। फिर अपने मोबाइल से शूट कर उसको शेयर कर सकती हैं। इसको आप अपने घर पर भी कर सकती हैं या चाहें तो अपने नगर में भी किसी कला केंद्र पर इसका आयोजन कर सकती हैं। अगर कला केंद्र उपलब्ध नही हो तो अलग से भी कोई व्यवस्था की जा सकती है। इस तरह की एक्टिविटी के द्वारा जब आप वीडियोस शेयर करेंगी तब यह वीडियो आपको एक कलाकार की तरह प्रस्तुत करेंगे, जिसे देखकर आपको स्वयं भी प्रसन्नता का अनुभव होगा व आपको एक सच्ची प्रसंशा भी प्राप्त होगी।🙏


*तो आइए आज ही हम ये शपथ लें कि इसी समय से टिक टॉक के वीडियोस न बनाएंगे न ही देखेंगे और न ही कही शेयर करेंगे*


*जय हिंद जय भारत* 🇨🇮🚩🇨🇮


*स्व लिखित- प्रियंका श्रीवास्तव*


Popular posts
उत्तराखंड के चारधाम / बद्रीनाथ को रोज चढ़ाई जाती है बद्रीतुलसी, यहां के बामणी गांव के लोग बनाते हैं ये माला
कोरोना इफेक्ट / एमिरेट्स एयरलाइंस ने 600 पायलटों और 6500 केबिन क्रू को निकाला, सितंबर तक कर्मचारियों की सैलरी में 50% कटौती जारी रहेगी
प्रसिद्ध समाजसेवी डॉ योगेश दुबे मुंबई की राजकुमार सोनी से बातचीत
Image
IIT गांधीनगर की रिसर्च / भारत में नाले के गंदे पानी में कोरोनावायरस होने के प्रमाण मिले, देश में इस तरह की यह पहली रिसर्च हुई
अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव / अश्वेतों की नाराजगी भुनाने में जुटे डेमोक्रेटिक उम्मीदवार जो बिडेन, युवाओं को लुभाने के लिए डिजिटल कैंपेन भी चलाएंगे