टेरर फंडिंग / हिजबुल नेटवर्क का भंडाफोड़; एनआईए ने पंजाब और हरियाणा पुलिस की मदद से तीन लोगों को गिरफ्तार किया

टेरर फंडिंग / हिजबुल नेटवर्क का भंडाफोड़; एनआईए ने पंजाब और हरियाणा पुलिस की मदद से तीन लोगों को गिरफ्तार किया





पंजाब से लगी पाकिस्तान की सीमा पर ड्रग स्मगलिंग रोकने के लिए बीएसएफ ने कई कदम उठाए हैं। यहां हर संदिग्ध हरकत पर सुरक्षा बल पैनी नजर रख रहे हैं। (फाइल)






  • एनआईए ने 25 अप्रैल को कश्मीर के रहने वाले हिलाल अहमद वागे को 29 लाख रुपए के साथ गिरफ्तार किया था

  • पूछताछ में पता लगा कि पाकिस्तान से सेंधा नमक के साथ ड्रग्स तस्करी होती है, पैसा हिजबुल को जाता है

  • एनआईए ने पंजाब और हरियाणा पुलिस की मदद से पिता, पुत्र समेत तीन लोगों को गिरफ्तार किया


नई दिल्ली. एनआईए ने पंजाब और हरियाणा पुलिस की मदद से हिजबुल मुजाहिदीन के टेरर फंडिंग नेटवर्क का भंडाफोड़ किया। तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया है। कुछ आरोपियों को पहले ही गिरफ्तार किया जा चुका है। न्यूज एजेंसी के मुताबिक, पाकिस्तान से सेंधा नमक की आड़ में ड्रग्स भारत भेजे जाते थे। इनकी बिक्री से मिलने वाला पैसा आतंकी संगठन हिजबुल मुजाहिदीन तक पहुंचता था।
एनआईए ने 25 अप्रैल को कश्मीर के रहने वाले हिलाल अहमद वागे को गिरफ्तार किया था। उससे पूछताछ के बाद इस रैकेट की जानकारी मिली। 


पाकिस्तान से आते थे ड्रग्स
न्यूज एजेंसी के मुताबिक, पाकिस्तान सेंधा नमक भारत को निर्यात करता है। इसके साथ छिपाकर ड्रग्स भी भेजे जाते थे। एनआईए को खुफिया सूत्रों से इसकी जानकारी मिल चुकी थी। उसने पंजाब और हरियाणा पुलिस की मदद ली। रंजीत सिंह उर्फ राणा और चीता को गिरफ्तार किया गया। उसके पिता हरभजन और भाई गगनदीप को भी गिरफ्तार किया गया। 


हिलाल का करीबी है रंजीत
नौगाम कश्मीर का रहने वाला हिलाल अहमद वागे हिजबुल के लिए पैसा जुटाता था। उसे 25 अप्रैल को गिरफ्तार किया गया था। कब्जे से 29 लाख रुपए बरामद हुए थे। पूछताछ के बाद जांच आगे बढ़ी। अमृतसर के बिक्रम सिंह उर्फ विकी को गिरफ्तार किया गया। आरोप है कि विकी ही हिलाल तक पैसा पहुंचाता था। उसके भाई मनिंदर को 5 मई को ही गिरफ्तार कर लिया गया था।  


नार्को-टेरर फंडिंग
सूत्रों के मुताबिक, टेरर फंडिंग और ड्रग्स का यह खेल लंबे वक्त से चल रहा था। पिछले साल अटारी बॉर्डर पर 532 किलोग्राम हेरोइन बरामद की गई थी। मुख्य आरोपी इकबाल सिंह शेरा और रंजीत फरार हो गए थे। एनआईए इस मामले की जांच कर रही है। पांच में से चार खेप भारत पहुंच गईं थीं। जबकि, आखिरी पकड़ी गई।  


कई लोग शामिल 
एक अफसर के मुताबिक, “ड्रग्स स्मगलिंग और टेरर फंडिंग के इस धंधे में इम्पोर्ट करने वाले, ग्राहक, हाउस एजेंट्स और ट्रांसपोर्टर शामिल हैं। हवाला के लिए जरिए पैसे का लेनदेन होता था। इसमें अफगानिस्तान और पाकिस्तान के कुछ लोग शामिल हैं।” तरन तारन जिले का रंजीत सिंह और उसके भाई इस मामले में मुख्य आरोपी हैं। 



Popular posts
उत्तराखंड के चारधाम / बद्रीनाथ को रोज चढ़ाई जाती है बद्रीतुलसी, यहां के बामणी गांव के लोग बनाते हैं ये माला
कोरोना इफेक्ट / एमिरेट्स एयरलाइंस ने 600 पायलटों और 6500 केबिन क्रू को निकाला, सितंबर तक कर्मचारियों की सैलरी में 50% कटौती जारी रहेगी
प्रसिद्ध समाजसेवी डॉ योगेश दुबे मुंबई की राजकुमार सोनी से बातचीत
Image
IIT गांधीनगर की रिसर्च / भारत में नाले के गंदे पानी में कोरोनावायरस होने के प्रमाण मिले, देश में इस तरह की यह पहली रिसर्च हुई
अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव / अश्वेतों की नाराजगी भुनाने में जुटे डेमोक्रेटिक उम्मीदवार जो बिडेन, युवाओं को लुभाने के लिए डिजिटल कैंपेन भी चलाएंगे