शर्लिन चोपड़ा ने मदर्स डे पर अपनी माँ का किया इस तरह धन्यवाद !

शर्लिन चोपड़ा ने मदर्स डे पर अपनी माँ का किया इस तरह धन्यवाद !

एक दोस्त, एक संरक्षक, हमारी पहली शिक्षक - एक माँ अपने बच्चों के जीवन में एक अनंत भूमिका निभाती है। कोई फर्क नहीं पड़ता कि हम कितने ही बड़े हो गए हो, हमारी निर्भरता उन पर बनी रहती हैं। हमें कभी भी ज़रूरत हो हमारी माँ एक सलाहकार के रूप में मौजूद रहती है। हम सभी अपने माताओं से प्रेरित हैं। और उनमें से एक हैं इंडस्ट्री की सबसे स्टाइलिश और ग्लैमरस अभिनेत्री-निर्माता, शर्लिन चोपड़ा ।

शर्लिन ने कहा '' हालांकि मेरे पिता एक डॉक्टर थे, लेकिन फिर भी मेरी माँ वास्तव में रोज़मर्रा की जरूरतों के लिए उन पर निर्भर नहीं थीं। वह एक ब्यूटी सैलून चलाती थीं और उन्होंने मुझे अपने सैलून के मैनेजर के रूप में रखा था। मुझे याद है कि मैं 7 वीं कक्षा में थी, मुझे मेरी माँ ने कर्मचारियों की देखरेख करने ,उनका अकाउंट देखने और सैलून में उपयोग में आने वाले सभी हेयर और सौंदर्य उपकरणों के सही तरीके से संचालन पर ध्यान देने के लिए प्रशिक्षित किया था। एक निर्माता और कंटेंट निर्माता के रूप में आज मैं अपनी माँ को धन्यवाद देती हूं कि मुझे एक बॉस बेब होने के लिए अच्छा और कठिन प्रशिक्षण दिया। धन्यवाद, माँ, मुझे उद्यमशीलता का अर्थ और मूल्य सिखाने के लिए । हैप्पी मदर्स डे। ''

शर्लिन चोपड़ा को आखिरी बार रैप वीडियो, कतार में देखा गया था, जिसे उनके प्रसंशको का प्यार मिला। इस रैप का निर्माण शर्लिन चोपड़ा प्रोडक्शन द्वारा किया गया है। शर्लिन चोपड़ा सोशल मीडिया की रानी मानी जाती है। वेब सीरीज, शार्ट फिल्मों और ग्लैमर वीडियो में धूम मचाने वाली शर्लिन अभी ओटीटी प्लेटफॉर्म और सोशल मीडिया एप्लीकेशन के लिए कंटेंट का निर्माण कर रही हैं।


Popular posts
लॉकडाउन में घर में घुस कर मध्यप्रदेश में नेत्रहीन महिला अधिकारी से रेप, परिजन दूसरे राज्य में फंसे 
उत्तराखंड के चारधाम / बद्रीनाथ को रोज चढ़ाई जाती है बद्रीतुलसी, यहां के बामणी गांव के लोग बनाते हैं ये माला
कोरोना इफेक्ट / एमिरेट्स एयरलाइंस ने 600 पायलटों और 6500 केबिन क्रू को निकाला, सितंबर तक कर्मचारियों की सैलरी में 50% कटौती जारी रहेगी
प्रसिद्ध समाजसेवी डॉ योगेश दुबे मुंबई की राजकुमार सोनी से बातचीत
Image
IIT गांधीनगर की रिसर्च / भारत में नाले के गंदे पानी में कोरोनावायरस होने के प्रमाण मिले, देश में इस तरह की यह पहली रिसर्च हुई