राष्ट्र के नाम संदेश / मोदी की अपील- आज से हर भारतीय लोकल के लिए वोकल बने, देश के लोग न सिर्फ लोकल प्रोडक्ट्स खरीदें, बल्कि उनका गर्व से प्रचार भी करें

राष्ट्र के नाम संदेश / मोदी की अपील- आज से हर भारतीय लोकल के लिए वोकल बने, देश के लोग न सिर्फ लोकल प्रोडक्ट्स खरीदें, बल्कि उनका गर्व से प्रचार भी करें





प्रधानमंत्री मोदी ने मंगलवार को राष्ट्र के नाम संबोधन दिया। इसमें उन्होंने 20 लाख करोड़ रुपए के आर्थिक पैकेज का ऐलान किया।






  • प्रधानमंत्री ने कहा- महामारी से उपजे संकट के इस दौर में हमें लोकल ने ही बचाया

  • मोदी ने कहा- लोकल सिर्फ जरूरत नहीं, बल्कि हम सबकी जिम्मेदारी है


नई दिल्ली. प्रधानमंत्री मोदी ने लॉकडाउन के दौर में मंगलवार को पांचवीं बार राष्ट्र के नाम संबोधन दिया। उन्होंने 20 लाख करोड़ रुपए के आर्थिक पैकेज का ऐलान किया। साथ ही, लोकल प्रोडक्ट्स को बढ़ावा देने की अपील की। उन्होंने कहा- हमें लोकल के लिए वोकल (vocal about local) होना पड़ेगा। यानी आज से हर भारतवासी को न सिर्फ लोकल प्रोडक्ट्स खरीदने हैं, बल्कि उनका गर्व से प्रचार भी करना है।


प्रधानमंत्री ने कहा, “कोरोना ने हमें लोकल मैन्यूफैक्चरिंग, लोकल सप्लाई चेन और लोकल मार्केटिंग का भी मतलब समझा दिया है। लोकल ने ही हमारी डिमांड पूरी की है। हमें इस लोकल ने ही बचाया है। लोकल सिर्फ जरूरत नहीं, बल्कि हम सबकी जिम्मेदारी है।’’


इसे जीवन मंत्र बनाएं
मोदी ने आगे कहा, “समय ने हमें सिखाया है कि लोकल को हमें अपना जीवन मंत्र बनाना ही होगा। आपको जो आज ग्लोबल ब्रांड लगते हैं, वो भी कभी ऐसे ही लोकल थे। जब वहां के लोगों ने उनका इस्तेमाल और प्रचार शुरू किया। उनकी ब्रांडिंग की, उन पर गर्व किया तो वे प्रोडक्ट्स लोकल से ग्लोबल बन गए। इसलिए, आज से हर भारतवासी को अपने लोकल के लिए वोकल बनना है। न सिर्फ लोकल प्रोडक्ट्स खरीदने हैं, बल्कि उनका गर्व से प्रचार भी करना है। मुझे पूरा विश्वास है कि हमारा देश ऐसा कर सकता है। आपके प्रयासों ने तो हर बार आपके प्रति मेरी श्रद्धा को और बढ़ाया है।’’


लोकल की मिसाल भी दी
प्रधानमंत्री ने स्थानीय उत्पादों यानी लोकल प्रोडक्ट्स को लेकर खादी की मिसाल दी। कहा, “मैं गर्व के साथ एक बात महसूस करता हूं, याद करता हूं। जब मैंने आपसे, देश से खादी खरीदने का आग्रह किया था। तब ये भी कहा था कि देश के हैंडलूम वर्कर्स को सपोर्ट करें। आप देखिए, बहुत ही कम समय में खादी और हैंडलूम, दोनों की ही डिमांड और बिक्री रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गई है। इतना ही नहीं, उसे आपने बड़ा ब्रांड भी बना दिया। बहुत छोटा सा प्रयास था, लेकिन परिणाम मिला, बहुत अच्छा परिणाम मिला।’’ 


इफिशिएंसी और क्वॉलिटी का मंत्र
प्रधानमंत्री ने रिफॉर्म्स पर भी जोर दिया। कहा, “रिफॉर्म खेती की चेन से भी जुड़ेंगे, ताकि किसान भी सशक्त हो और कोरोना जैसे संकट में खेती पर कम से कम असर हो। यह रिफॉर्म मजबूत फाइनेंशियल सिस्टम के निर्माण के लिए भी होंगे। ये निवेश को आकर्षित करेंगे और मेक इन इंडिया के सपने को साकार करेंगे। आत्मनिर्भरता दरअसल, आत्मबल और आत्मविश्वास से ही संभव है। आत्मनिर्भरता ग्लोबल सप्लाई चेन की स्पर्धा में देश को तैयार करेगी। इसे समझते हुए आर्थिक पैकेज में कई प्रावधान किए गए हैं। इससे हमारे सभी सेक्टर्स की इफिशिएंसी बढ़ेगी और क्वालिटी भी तय होगी।’’



Popular posts
सीमा विवाद पर भारत की दो टूक / अफसरों ने कहा- चीन बॉर्डर से अपने 10 हजार सैनिक और हथियार हटाए, ऐसा होने पर ही पूरी तरह शांति कायम होगी
सीमा पर तनाव घटा / पूर्वी लद्दाख में गालवन इलाके से चीन ने सेना और बख्तरबंद गाड़ियां ढाई किमी पीछे बुलाईं, भारत ने भी जवान कम किए
टेबल टेनिस / शरत कमल ने कहा- टोक्यो ओलिंपिक में सिंगल्स में मेडल जीतना मुश्किल, पर डबल्स में मौका
Image
सिंधिया परिवार में कोरोना / ज्योतिरादित्य और उनकी मां कोरोना पॉजिटिव, दिल्ली के अस्पताल में भर्ती; परिवार के तीन सदस्यों की रिपोर्ट निगेटिव आई
IIT गांधीनगर की रिसर्च / भारत में नाले के गंदे पानी में कोरोनावायरस होने के प्रमाण मिले, देश में इस तरह की यह पहली रिसर्च हुई