मुजफ्फरनगर हादसे की आपबीती / मजदूरों को एक किलोमीटर दूर टोल प्लाजा पर रुककर कुछ खाना था, रास्ते में ही बस ने रौंद दिया; सड़क पर लाशों के साथ खाना भी बिखर गया

मुजफ्फरनगर हादसे की आपबीती / मजदूरों को एक किलोमीटर दूर टोल प्लाजा पर रुककर कुछ खाना था, रास्ते में ही बस ने रौंद दिया; सड़क पर लाशों के साथ खाना भी बिखर गया




  • मुजफ्फरनगर में पंजाब से बिहार के गोपालगंज जा रहे 10 मजदूरों को बस ने कुचला, 6 की मौत

  • हाईवे स्थित टोल प्लाजा के कर्मचारियों ने बताया कि बस ड्राइवर की लापरवाही की वजह से हादसा हुआ


मुजफ्फरनगर. सहारनपुर-मुजफ्फरनगर स्टेट हाईवे पर रोहाना टोल प्लाजा के पास आधी रात सड़क पर पैदल चल रहे 10 मजदूरों को रोडवेज की बस ने रौंद दिया। इस हादसे में 6 लोगों की जान चली गई। जो बच गए उन्होंने हादसे की आपबीती बताई। एक घायल मजदूर ने कहा कि पैदल चलते-चलते थक गए थे, भूख लगी थी। एक किलोमीटर दूर टोल प्लाजा दिखाई दे रहा था। सभी मजदूरों ने तय किया कि वहीं पर रुककर कुछ खा लिया जाएगा। पर रास्ते में ही रोडवेज की बस ने इन मजदूरों को कुचल दिया। सड़क पर मजदूरों की लाशें बिखर गईं। जिस खाने से भूख मिटाने की सोची थी, वे पूड़ियां, आचार और बिस्किट भी सड़क पर बिखर गए। 
ये सभी मजदूर पंजाब से पैदल बिहार के गोपालगंज स्थित अपने घरों की ओर जा रहे थे। जो 4 मजदूर घायल हुए हैं, उनकी हालत भी ठीक नहीं है।


'जब फैक्ट्री मालिक ने पैसे देने बंद कर दिए, तो घरों की ओर निकल पड़े मजदूर'
एक मजदूर ने बताया, "जब पहली बार लॉकडाउन लगा तो फैक्ट्री मालिक ने हमें कुछ पैसे दिए और खाने-पीने का इंतजाम भी किया, लेकिन जैसे-जैसे लॉकडाउन बढ़ता गया, तंगी भी बढ़ती गई। फैक्ट्री मालिक ने हमें तनख्वाह और खाना देने से मना कर दिया और घर जाने के लिए कह दिया। हम भी मजबूर थे। जब तक पैसे थे, तब तक काम चलाया। जब पैसे खत्म होने को आए तो हम अपने घरों की ओर निकल पड़े।"
आधार कार्ड से हुई मृतक बाप-बेटे की पहचान
मृतकों में दो बाप-बेटे हैं। सड़क पर पड़े मिले फोटो स्टेट आधार कार्ड से इनकी पहचान हुई। हरेश और उसका बेटा विकास दोनों ही पंजाब में नौकरी करते थे। टोल प्लाजा के कर्मचारी भी बताते हैं कि हादसे की वजह बस ड्राइवर की लापरवाही है।


जिस रोडवेज बस से एक्सीडेंट हुआ उसमें सहारनपुर से अनिल भी बैठकर यात्रा कर रहे थे।अनिल ने बताया- "बस खाली थी तो मैं सो गया था। नींद में था, तभी जोर से आवाज आई। मैंने चिल्लाकर पूछा कि क्या हुआ तो ड्राइवर ने कहा कि बस गाय से भिड़ गई है। हादसे वाली जगह से दूर जाकर उसने बस रोकी। फिर कहने लगा कि पता नहीं चला कि हुआ क्या है। अब मीडिया से यह बात पता चली है कि हादसा हो गया है।"



Popular posts
उत्तराखंड के चारधाम / बद्रीनाथ को रोज चढ़ाई जाती है बद्रीतुलसी, यहां के बामणी गांव के लोग बनाते हैं ये माला
कोरोना इफेक्ट / एमिरेट्स एयरलाइंस ने 600 पायलटों और 6500 केबिन क्रू को निकाला, सितंबर तक कर्मचारियों की सैलरी में 50% कटौती जारी रहेगी
प्रसिद्ध समाजसेवी डॉ योगेश दुबे मुंबई की राजकुमार सोनी से बातचीत
Image
IIT गांधीनगर की रिसर्च / भारत में नाले के गंदे पानी में कोरोनावायरस होने के प्रमाण मिले, देश में इस तरह की यह पहली रिसर्च हुई
अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव / अश्वेतों की नाराजगी भुनाने में जुटे डेमोक्रेटिक उम्मीदवार जो बिडेन, युवाओं को लुभाने के लिए डिजिटल कैंपेन भी चलाएंगे