कोरोना में पर्यावरण साफ / भारत में 40 साल में पहली बार कार्बन उत्सर्जन कम; लॉकडाउन में बिजली की खपत और जीवाश्म ईंधन की मांग भी गिरी

कोरोना में पर्यावरण साफ / भारत में 40 साल में पहली बार कार्बन उत्सर्जन कम; लॉकडाउन में बिजली की खपत और जीवाश्म ईंधन की मांग भी गिरी




  • देश में मार्च में कार्बन उत्सर्जन 15% कम हुआ,  अप्रैल में 30% तक कम होने की संभावना 

  • विशेषज्ञों का कहना है कि लॉकडाउन हटने के बाद थर्मल पॉवर की खपत और कार्बन उत्सर्जन बढ़ेगा


नई दिल्ली. भारत में कार्बन उत्सर्जन 40 साल में पहली बार कम हुआ। हालांकि, इस कमी की इकलौती वजह लॉकडाउन नहीं है, जो संक्रमण रोकने के लिए लगाया गया है। सेंटर फॉर रिसर्च ऑन एनर्जी एंड क्लीन एयर (सीआरईए) के रिसर्चर्स ने मंगलवार को बताया कि लॉकडाउन की वजह से बिजली की खपत कम हुई है। नवीकरणीय ऊर्जा (रिन्यूएबल एनर्जी) का इस्तेमाल बढ़ने से जीवाश्म ईंधन की मांग भी कम हुई है।


रिसर्चर्स के मुताबिक, इसने भारत में कार्बन उत्सर्जन के 37 साल के ट्रेंड को बदल दिया है। 2019 की शुरुआत से ही भारत में थर्मल पॉवर की मांग कम हुई है। देश में मार्च में कार्बन उत्सर्जन 15% कम हुआ। अप्रैल में 30% तक कम होने की संभावना जताई जा रही है।


कोयले से होने वाले बिजली उत्पादन में कमी


शोधकर्ताओं का कहना है कि लॉकडाउन के बाद भारत में बिजली के इस्तेमाल में कमी आई है। इस कारण कोयले की जरूरत भी कम हुई है। कोयले से होने वाला बिजली उत्पादन मार्च में 15% और अप्रैल के तीन हफ्तों में 31% तक कम हुआ है। वहीं, नवीनीकरणीय ऊर्जा की मांग मार्च में 6.4% बढ़ी और अप्रैल में 1.4 % कम हुई।


सीआरईए के शोधकर्ताओं का कहना है कि कोयले की मांग लॉकडाउन से पहले ही कम होने लगी थी। इस साल मार्च में खत्म होने वाले वित्तीय वर्ष के दौरान कोयले की बिक्री 2% कम हुई। तब से अब तक इसमें 10% की गिरावट आई है। आयात भी 27.5% कम हुआ है।


दुनियाभर में कोयले की खपत में 8% की कमी


इंटरनेशनल एनर्जी एजेंसी की ओर से अप्रैल में जारी आंकड़ों के मुताबिक, दुनियाभर में कोयले की खपत में 8% की कमी आई है। वहीं, विशेषज्ञों का कहना है कि जीवाश्म ईंधन की खपत में कमी हमेशा नहीं रहेगी। लॉकडाउन हटने के बाद थर्मल पॉवर की खपत और कार्बन उत्सर्जन में फिर बढ़त दर्ज की जाएगी।


देश में तेल की खपत में कमी नजर आ रही है। मार्च में पिछले साल की तुलना में तेल की खपत में 18% गिरावट आई है। वित्त वर्ष के दौरान खपत केवल 2% बढ़ी, जो 22 साल में सबसे धीमी वृद्धि रही। इस दौरान कच्चे तेल का उत्पादन भी 5.9% और रिफाइनरी का उत्पादन 1.1% गिर गया।


पहले भी कार्बन उत्सर्जन में मामूली गिरावट हुई


कोयला, तेल और गैस की खपत के आंकड़ों के आधार पर शोधकर्ताओं का अनुमान है कि कार्बन उत्सर्जन 30 मीट्रिक टन तक गिर गया है। भारत में 1970, 1974, 1980 और 1984 में भी गिरावट देखी गई थी। लेकिन इस साल की कमी की तुलना में वह न्यूनतम थी।


हालांकि, यह स्पष्ट नहीं है कि देश फिर से खुलने के बाद पर्यावरण के इन सुधारों को बनाए रख पाएगा या नहीं। अमेरिका ने भी महामारी के दौरान पर्यावरण नियमों में ढील दी है।  



Popular posts
उत्तराखंड के चारधाम / बद्रीनाथ को रोज चढ़ाई जाती है बद्रीतुलसी, यहां के बामणी गांव के लोग बनाते हैं ये माला
सीमा विवाद पर भारत की दो टूक / अफसरों ने कहा- चीन बॉर्डर से अपने 10 हजार सैनिक और हथियार हटाए, ऐसा होने पर ही पूरी तरह शांति कायम होगी
प्रसिद्ध समाजसेवी डॉ योगेश दुबे मुंबई की राजकुमार सोनी से बातचीत
Image
अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव / अश्वेतों की नाराजगी भुनाने में जुटे डेमोक्रेटिक उम्मीदवार जो बिडेन, युवाओं को लुभाने के लिए डिजिटल कैंपेन भी चलाएंगे
कोरोना इफेक्ट / एमिरेट्स एयरलाइंस ने 600 पायलटों और 6500 केबिन क्रू को निकाला, सितंबर तक कर्मचारियों की सैलरी में 50% कटौती जारी रहेगी