कविता - जल थल नभ जीवन हैंअस्त व्यस्त


कविता

जल थल नभ जीवन हैंअस्त व्यस्त

 

जल थल नभ जीवन हैंअस्त व्यस्त

इक्क्षाशक्ति से हम सब कर सकते हैं स्वस्थ्य।

घर मे ही रहिये यही है विकल्प

उपयोगी हैं री यूज़ मास्क कर ले संकल्प ।

पर्यावरण में हो रहा सुधार

पर प्रगतिशील जीवन का हो गया बेहाल।

जलचर नभचर थलचर में हैं कोलाहल ।

दृढ़संकल्प से  हम कर सकते हलचल ।

घर मे रहिये,सुरक्षित चलिये तभी गतिशीलता

की ओर बढ़ पायेंगे हम सब ,हम सब

जय माँ भारती

 

दीपाली सन्दीप गुप्ता

संयोजक

राष्ट्रीय रक्तदान शिविर

अखिल भारतीय माथुर वैश्य महासभा


Popular posts
IIT गांधीनगर की रिसर्च / भारत में नाले के गंदे पानी में कोरोनावायरस होने के प्रमाण मिले, देश में इस तरह की यह पहली रिसर्च हुई
कोरोना पर मौसम का असर / नमी घटने पर वायरस हल्के और बारीक होने से हवा में बने रहते हैं, इसीलिए ठंडा मौसम ज्यादा खतरनाक
कोरोना पॉजिटिव युवती पर संक्रमण फैलाने और पिता-भाई व कजिन पर जानकारी छिपाने का केस दर्ज
Image
चैरिटी मैच / हैवीवेट बॉक्सर माइक टायसन 15 साल बाद रिंग में लौटेंगे, पैसा जुटाकर गरीबों के लिए घर बनवाएंगे
एजुकेशन / सीबीएसई 10वीं और 12वीं की कॉपियों का मूल्यांकन आज से घर से ही करेंगे टीचर, गृह मंत्रालय ने दी मंजूरी