जबलपुर: लॉकडाउन में हुनर दिखाते हुए एक युवक ने बना डाली पीएम मोदी की वॉल पेंटिंग, हर जगह हो रही तारीफ

जबलपुर: लॉकडाउन में हुनर दिखाते हुए एक युवक ने बना डाली पीएम मोदी की वॉल पेंटिंग, हर जगह हो रही तारीफ


जबलपुर. कोरोना महामारी से एक ओर जहां भय का वातावरण बना हुआ है और शासन-प्रशासन लोगों को घरों में खुद को सुरक्षित रखने के निर्देश दे रहे हैं, वहीं यह समय कुछ लोगों के लिए गोल्डन पीरियड भी बना हुआ है. लॉकडाउन के दौरान लोग अपने घरों में परिवार के साथ समय बिता रहे हैं तो वहीं हुनरमंद अपनी कला को निखारने का प्रयास कर रहे हैं. जबलपुर के कंटेनमेंट जोन बने सराफा में रहने वाले ऐसे ही एक आर्टिस्ट हैं सोमिन जैन, जो फाइन आर्ट के स्टूडेंट हैं. उन्होंने अपने घर की छत पर एक दीवार में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तस्वीर बनाई है.

क्यों चुना पीएम मोदी को
लॉकडाउन का फायदा उठाते हुए वे अपनी कला को निखार रहे हैं. करीब 15 दिनों तक वे हर दिन शाम को दो घंटे इस पेंटिंग को बनाने में लगे रहते थे. उनसे जब पूछा गया कि उन्होंने पीएम मोदी को ही क्यों चुना, तो सोमिन का कहना है कि कोरोना महामारी के इस दौर में पीएम ने ब?े चुनौतीपूर्ण निर्णय लिये हैं और देशवासियों को बचाने के लिए लगातार प्रयास कर रहे हैं. उनकी सोच और प्रयासों की पूरी दुनिया तारीफ कर रही है. आज के दौर में पीएम नरेंद्र मोदी दुनियाभर के लिए मिसाल हैं इसलिए उन्होंने यह पेंटिंग बनाई है.

केंद्रीय पर्यटन राज्यमंत्री ने पेंटिंग की ट्वीट
सोमिन जैन द्वारा बनाई गई इस पेंटिंग को केंद्रीय पर्यटन एवं राज्यमंत्री प्रह्लाद पटेल ने ट्वीट भी किया है. सोमिन ने इसके पहले भी कई और पेंटिंग्स बनाई हैं जो उनकी कला को बयां करती हैं. बहरहाल सोमिन ने लोगों से अपील की है कि वे भी अपने घरों में रहें और अपनी कला को निखारें या फिर कुछ नया करने की कोशिश करें.


Popular posts
लॉकडाउन में घर में घुस कर मध्यप्रदेश में नेत्रहीन महिला अधिकारी से रेप, परिजन दूसरे राज्य में फंसे 
उत्तराखंड के चारधाम / बद्रीनाथ को रोज चढ़ाई जाती है बद्रीतुलसी, यहां के बामणी गांव के लोग बनाते हैं ये माला
कोरोना इफेक्ट / एमिरेट्स एयरलाइंस ने 600 पायलटों और 6500 केबिन क्रू को निकाला, सितंबर तक कर्मचारियों की सैलरी में 50% कटौती जारी रहेगी
प्रसिद्ध समाजसेवी डॉ योगेश दुबे मुंबई की राजकुमार सोनी से बातचीत
Image
IIT गांधीनगर की रिसर्च / भारत में नाले के गंदे पानी में कोरोनावायरस होने के प्रमाण मिले, देश में इस तरह की यह पहली रिसर्च हुई