छत्तीसगढ़  / पूर्व सीएम अजीत जोगी को दिल का दौरा, हालत गंभीर; डॉक्टर ने कहा- इमली का बीज गले में अटकने से हुई परेशानी

छत्तीसगढ़  / पूर्व सीएम अजीत जोगी को दिल का दौरा, हालत गंभीर; डॉक्टर ने कहा- इमली का बीज गले में अटकने से हुई परेशानी





छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जाेगी की तबीयत खराब होने के बाद उन्हें रायपुर के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। -फाइल फोटो






  • जोगी को रायपुर के श्रीनारायणा अस्पताल में भर्ती कराया गया


रायपुर. छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी को शनिवार सुबह दिल का दौरा पड़ा। उन्हें रायपुर के एक प्राइवेट हॉस्पिटल में एडमिट कराया गया है। उनकी हालत फिलहाल गंभीर है। डॉक्टरों का कहना है कि उन्हें कार्डियक अरेस्ट हुआ है। 
शनिवार सुबह करीब 7 बजे उनकी पत्नी और विधायक डॉ. रेणु जोगी ने अजीत का ब्लड प्रेशर चेक किया। काफी कम होने और उसमें सुधार नहीं होने पर जोगी को देवेंद्र नगर स्थित श्रीनारायणा अस्पताल में भर्ती कराया गया। बेटे अमित जोगी ने पिता की तबीयत खराब होने की बात कही है। वे बिलासपुर से रायपुर के लिए रवाना हो गए हैं। 


अस्पताल के डायरेक्टर डॉक्टर सुनील खेमका ने बताया- जोगी को कार्डियक अरेस्ट आया था। अब रिकवरी हो रही है। हालांकि, स्थिति अब भी गंभीर है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बेटे अमित जोगी से फोन पर अजीत के स्वास्थ्य के बारे में जानकारी ली।


डॉ.  खेमका के मुताबिक, “जोगी घर में व्हील चेयर पर टहल कर इमली खा रहे थे। इसी दौरान इमली का बीज उनके गले मे अटक गया। इससे हार्टबीट असामान्य हो गई। हालांकि, अब ये नॉर्मल है। उन्हें दो दिन ऑब्जर्वेशन में रखा जाएगा।” खेमका ने जोगी को एयर एम्बुलेंस से दिल्ली ले जाने की बात से इनकार कर दिया। कहा- अभी इसकी जरूरत नहीं है। 



Popular posts
पेरू की पॉपुलर मंत्री / 35 साल की वित्त मंत्री मारिया बनीं स्टार, कोरोना के बीच आम लोगों और छोटे कारोबारियों के लिए रिकवरी पैकेज तैयार करने पर तारीफ मिल रही
शुभ संयोग : गुरु पुष्य नक्षत्र 30 अप्रैल : डॉ हुकुमचंद जैन ज्योतिषाचार्य
Image
अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव / अश्वेतों की नाराजगी भुनाने में जुटे डेमोक्रेटिक उम्मीदवार जो बिडेन, युवाओं को लुभाने के लिए डिजिटल कैंपेन भी चलाएंगे
लोक अभियोजन अधिकारियों की न्याय दिलाने में महत्वपूर्ण भूमिका है - न्यायमूर्ति पाठक
Image
उत्तराखंड के चारधाम / बद्रीनाथ को रोज चढ़ाई जाती है बद्रीतुलसी, यहां के बामणी गांव के लोग बनाते हैं ये माला