चैरिटी मैच / हैवीवेट बॉक्सर माइक टायसन 15 साल बाद रिंग में लौटेंगे, पैसा जुटाकर गरीबों के लिए घर बनवाएंगे

चैरिटी मैच / हैवीवेट बॉक्सर माइक टायसन 15 साल बाद रिंग में लौटेंगे, पैसा जुटाकर गरीबों के लिए घर बनवाएंगे





हैवीवेट बॉक्सर माइक टायसन ने 1986 में 20 साल की उम्र में ट्रेवर बेबरिक का रिकॉर्ड तोड़ दुनिया का सबसे युवा हैवीवेट चैम्पियन होने का रिकॉर्ड दर्ज कराया था। जो आज भी कायम है।






  • अमेरिका के माइक टायसन को 2005 में आखिरी मुकाबले केविन मैकब्राइड ने हराया था

  • टायसन ने 50 में से 44 मैच जीते, उन्हें ऑल टाइम ग्रेट बॉक्सर के नाम से भी जाना जाता है


बॉक्सिंग की दुनिया में 80 के दशक में राज करने वाले हैवीवेट बॉक्सर माइक टायसन 15 साल बाद रिंग में वापसी करने वाले हैं। वे चैरिटी के लिए कुछ प्रदर्शनी मैचों में उतरेंगे। टायसन ने सोमवार को इंस्टाग्राम पर एक वीडियो शेयर करते हुए लिखा, ‘मैं वापसी कर रहा हूं।’


वीडियो मे टायसन पंच मारते हुए नजर आ रहे है। उनके पावर, स्टेमिना और स्पीड को देखकर ऐसा लग रहा है कि वे आज भी डब्ल्यूबीए, डब्ल्यूबीसी और आईबीएफ का खिताब जीतने के लिए प्रैक्टिस कर रहे हैं।


2005 में टायसन ने आखिरी मैच खेला था
उन्होंने एक लाइव चैट के दौरान भी वापसी की बात कही थी। उन्होंने कहा था कि वे चैरिटी के लिए पैसा जमा करना चाहते हैं। टायसन इस पैसे से बेघर लोगों की घर बनाने में सहायता करना चाहते हैं। चैरिटी मैच के लिए टायसन लगातार प्रैक्टिस कर रहे हैं। टायसन ने अपना आखिरी मुकाबला 2005 में केविन मैकब्राइड के खिलाफ खेला था। उन्हें हार के साथ अपना 20 साल का करियर समाप्त करना पड़ा था।


टायसन के नाम सबसे युवा चैम्पियन का रिकॉर्ड
टायसन 50 में से 44 मैच जीत चुके हैं। उन्हें ऑल टाइम ग्रेट बॉक्सर के नाम से भी जाना जाता है। टायसन ने 1986 में 20 साल की उम्र में ट्रेवर बेबरिक का रिकॉर्ड तोड़ दुनिया का सबसे युवा हैवीवेट चैम्पियन होने का रिकॉर्ड दर्ज कराया था। जो आज भी कायम है।



Popular posts
अमेरिका में कोरोना / वैज्ञानिक का दावा- भारत से कम गुणवत्ता वाली हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन मिल रही, अफसरों ने नजरअंदाज किया; पद से हटाए गए
महाराष्ट्र में हादसा / मध्य प्रदेश लौटने के लिए निकले 16 मजदूरों की औरंगाबाद के पास मालगाड़ी से कटकर मौत, 40 किमी पैदल चलने के बाद थककर पटरी पर सो गए थे
टेक / फेसबुक से यूजर्स के डेटा की जानकारी लेने में भारत दूसरे नंबर पर, सरकार ने कंपनी को 2019 में 49 हजार लीगल और इमरजेंसी रिक्वेस्ट भेजी
असली परीक्षा
दवा विवाद / कोलंबिया यूनिवर्सिटी का शोध- मलेरिया की दवा हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन कोरोना में ज्यादा फायदेमंद नहीं, मरीज बच नहीं पा रहे