बराक ओबामा बने प्रोड्यूसर, मिशेल ओबामा के फस्र्ट्र लेडी के तौर पर बिताए आठ सालों पर बना डाली फिल्म


अमेरिका की पूर्व फर्स्ट लेडी और पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा की पत्नी मिशेल ओबामा की जिंदगी से जुड़ी डॉक्यूमेंट्री का अगले हफ्ते नेटफ्लिक्स पर प्रीमियर होगा। इस डॉक्यूमेंट्री का नाम 'बिकमिंग' रखा गया है जो 6 मई को दस्तक देगी। इस फिल्म को पूर्व फर्स्ड लेडी मिशेल ओबामा के जीवन का एक अनोखा और खास रूप बताया गया है। यह डॉक्यूमेंट्री उस दौर को पेश करता है जब मिशेल ओबामा अपनी इसी नाम की किताब के प्रमोशन के लिए करीब 34 शहरों की यात्रा पर निकली थीं। यह किताब बेस्टसेलिंग किताबों में एक थी। बिकमिंग का निर्देशिन नाडिया हॉलग्रेन ने किया है। इसका निर्माण 'अमेरिकन फैक्टरी डाक्यूमेंट्री का निर्माण करने वाली हायर ग्राउंड प्रोडक्शन के जरिए किया जा रहा है। इस कंपनी का निर्माण मिशेल ओबामा और बराक ओबामा ने नेटफ्लिक्स, स्पोटिफाई के लिए कंटेंट बनाने के लिए किया था। नेटफ्लिक्स ने इसकी जानकारी देते हुए एक फर्स्ट लुक का एक वीडियो साझा किया है। जिसमें मिशेल ओबामा बच्चों संग बातें करती नजर आ रही हैं और उनसे स्नेहपूर्वक बातचीत करते और उनका प्रोत्साहन करती हुईं नजर आ रही हैं। इस वीडियो में मिशेल बताती हैं कि इस टूर के जरिए उन्हें काफी कुछ सीखने को मिला साथ ही अच्छा अनुभव भी प्राप्त हुआ। सामने आए वीडियो में कई युवा मिशेल ओबामा से उनकी जिंदगी को लेकर सवाल पूछते नजर आते हैं। वह उनसे उनके फर्स्ट लेडी से बनने से पहले और बाद के समय की बात करते हुए नजर आते हैं। वह उनसे यह भी पूछते हैं कि फर्स्ट लेडी के तौर पर बिताए आठ साल के पहले और बाद की जिंदगी में किस तरह के परिवर्तन करने पड़े। गौरतलब है कि बिकमिंग साल 2018 में लॉन्च हुई थी और देखते ही देखते यह बेस्ट सेलिंग किताब बन गई थी। इस किताब की करीब 30 साल से अधिक प्रतियां बिकी थी।



Popular posts
लॉकडाउन में घर में घुस कर मध्यप्रदेश में नेत्रहीन महिला अधिकारी से रेप, परिजन दूसरे राज्य में फंसे 
उत्तराखंड के चारधाम / बद्रीनाथ को रोज चढ़ाई जाती है बद्रीतुलसी, यहां के बामणी गांव के लोग बनाते हैं ये माला
कोरोना इफेक्ट / एमिरेट्स एयरलाइंस ने 600 पायलटों और 6500 केबिन क्रू को निकाला, सितंबर तक कर्मचारियों की सैलरी में 50% कटौती जारी रहेगी
प्रसिद्ध समाजसेवी डॉ योगेश दुबे मुंबई की राजकुमार सोनी से बातचीत
Image
IIT गांधीनगर की रिसर्च / भारत में नाले के गंदे पानी में कोरोनावायरस होने के प्रमाण मिले, देश में इस तरह की यह पहली रिसर्च हुई