बंबई से बनारस Live रिपोर्ट्स / गांव में 40 लोग बाहर से लौटे हैं, लेकिन सिर्फ उस घर के आगे क्वारैंटाइन का स्टीकर है, जिसे राहुल गांधी ने गाड़ी में पहुंचाया

बंबई से बनारस Live रिपोर्ट्स / गांव में 40 लोग बाहर से लौटे हैं, लेकिन सिर्फ उस घर के आगे क्वारैंटाइन का स्टीकर है, जिसे राहुल गांधी ने गाड़ी में पहुंचाया



 




  • राहुल गांधी ने दो-दो लोगों को कुछ गाड़ियों में मथुरा तक पहुंचाया और वहां से बस से ये झांसी के अपने गांव तक आए

  • कहानी महोबा के रहने वाले अजीम की जो गुडगांव में नर्सरी चलाते हैं और दिव्यांग पत्नी को साइकिल पर बैठाकर घर जा रहे हैं


बारहवीं स्टोरी, देवरियासिंह पुरा गांव से:
लोग महानगरों से पलायन कर रहे हैं लेकिन गांव आने पर कर क्या रहे हैं या करेंगे क्या? यह देखने के लिए हम झांसी से बनारस बीच कुछ गांवों में गए। देवरियासिंहपुरा गांव में हमारी मुलाकात उस परिवार से हुई जिसे राहुल गांधी ने दिल्ली से झांसी भेजा है। पूरे गांव में सिर्फ इनके ही दरवाजे पर क्वारैंटाइन का स्टीकर लगा है जबकि इस गांव में 40 लोग दिल्ली-बंबई जैसे शहरों से लौटे हैं।


जब ये लोग दिल्ली निजामुद्दीन स्टेशन पर पहुंचे तो वहां इन्हें कुछ कैमरे लिए लोग मिले जिन्होंने कहा कि राहुल गांधी से मिलकर जाओ। परिवार की सदस्य रामसखी बताती हैं, राहुल गांधी इनसे मिले, इनका दुख दर्द पूछा और पूछा कि वह इनके लिए क्या कर सकते हैं। इन्होंने कहा कि किसी तरीके से इन्हें घर भिजवा दें बस। राहुल गांधी ने दो-दो लोगों को कुछ गाड़ियों में मथुरा तक पहुंचाया और वहां से बस से ये झांसी के अपने गांव तक आए।


फिलहाल यह लोग क्वारंटाइन में हैं। इनका कहना है कि गांव में लोग हमसे डर रहे हैं। कोई हमारे पास नहीं आ रहा है। जबकि हम लोगों का टेस्ट हो चुका है और हमें कोरोना नहीं है। लेकिन फिर भी गांव वालों ने हउआ बना लिया है।


गांव के मुखिया नारायण सिंह कहते हैं, राहुल गांधी की वजह से यह परिवार थोड़ा लाइम लाइट में ज्यादा आ गया। इसलिए गांव में केवल इसी परिवार की चर्चा है जबकि आए तो और भी लोग हैं।


रामसखी का परिवार अब गांव लौट कर अपनी आठ बीघा जमीन पर खेती करेगा। रामसखी के देवर विनोद का कहना है कि हरियाणा में ये लोग बेलदारी का काम करते थे। 200 रुपये दिहाड़ी पाते थे। विनोद के मुताबिक, उनके माता-पिता घर में खेती का काम संभाल रहे थे लेकिन चार ज्यादा पैसे के लालच में वह लोग कमाने के लिए परदेस चले गए, लेकिन अब गांव में रहकर खेती ही करेंगे।


नर्सरी चलाने वाले शख्स दिव्यांग पत्नी को साइकिल पर बैठाकर घर जा रहे हैं


कहानी महोबा के रहने वाले अजीम की है, उन्हीं की जुबानी में - ‘पत्नी से मैं बेपनाह मोहब्बत करता हूं। कोरोना का संकट है, तो क्या हुआ? उसे गुड़गांव में अकेला छोड़कर मैं गांव नहीं आ सकता था। लॉकडाउन होने पर मेरा नर्सरी का धंधा ठप्प हो गया। इसलिए मैंने अपनी साइकिल के कैरियर पर लकड़ी का एक चौड़ा प्लाय लगाया। ताकि पत्नी उस पर आराम से बैठ सके और घर का जरूरी सामान भी बांधा जा सके।


गुड़गांव से मैं साइकिल चला कर पलवल तक आया। यहां मुझे कुछ पुलिस वाले मिल गए। उन्होंने एक ट्रक रोककर मेरी साइकिल उस पर चढ़ा दी। इस ट्रक ने मुझे मथुरा से थोड़ा पहले ही उतार दिया। उसके बाद मैने फिर 15-20 किमी तक साइकिल चलाई। रास्ते में एक ट्रैक्टर वाले को दया आई। उसने मुझे, मेरी पत्नी और साइकिल को झांसी से पहले डबरा तक पहुंचाया। किसी तरह मैं झांसी पहुंचा तो पुलिस ने मुझे साइकिल नहीं चलाने दी। उन्होंने एक बस से मुझे उत्तर प्रदेश-मध्य प्रदेश के इस छतरपुर बॉर्डर तक पहुंचवाया है।


मैं और मेरी पत्नी दोनों ही बहुत थक गए हैं। हमें महोबा जाना है। यहां से बस मिलने का इंतजार कर रहा हूं। नहीं तो धूप कम होने पर साइकिल से गांव की ओर निकलूंगा। जब गुड़गांव से छतरपुर पहुंच गया हूं, तो महोबा गांव भी आज नहीं तो कल पहुंच ही जाऊंगा।


मुझे नर्सरी के अलावा मजदूरी का भी काम आता है। इसलिए गांव में अगर मुझे मनरेगा में भी काम मिल जाएगा तो मेरी रोजी-रोटी चल जाएगी। क्योंकि परिवार में मैं और पत्नी दो ही लोग हैं। और थोड़ी खेती भी है।’



Popular posts
उत्तराखंड के चारधाम / बद्रीनाथ को रोज चढ़ाई जाती है बद्रीतुलसी, यहां के बामणी गांव के लोग बनाते हैं ये माला
कोरोना इफेक्ट / एमिरेट्स एयरलाइंस ने 600 पायलटों और 6500 केबिन क्रू को निकाला, सितंबर तक कर्मचारियों की सैलरी में 50% कटौती जारी रहेगी
प्रसिद्ध समाजसेवी डॉ योगेश दुबे मुंबई की राजकुमार सोनी से बातचीत
Image
IIT गांधीनगर की रिसर्च / भारत में नाले के गंदे पानी में कोरोनावायरस होने के प्रमाण मिले, देश में इस तरह की यह पहली रिसर्च हुई
अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव / अश्वेतों की नाराजगी भुनाने में जुटे डेमोक्रेटिक उम्मीदवार जो बिडेन, युवाओं को लुभाने के लिए डिजिटल कैंपेन भी चलाएंगे