ऐसे कैसे हारेगा कोरोना / कटिहार स्टेशन पर भोजन के पैकेट के लिए मची लूट, सोशल डिस्टेंसिंग की उड़ी धज्जियां

ऐसे कैसे हारेगा कोरोना / कटिहार स्टेशन पर भोजन के पैकेट के लिए मची लूट, सोशल डिस्टेंसिंग की उड़ी धज्जियां





कटिहार जंक्शन पर भोजन के पैकेट के लिए छीना-झपटी करते प्रवासी मजदूर।






  • प्रवासी मजदूरों को नई दिल्ली से लेकर पूर्णिया जा रही थी श्रमिक स्पेशल ट्रेन

  • कटिहार जंक्शन पर ट्रेन थोड़ी देर के लिए रुकी तो लोग भोजन के पैकेट लेने के लिए टूट पड़े


कटिहार. कोरोना संकट के इस दौर में दूसरे राज्यों से प्रवासी मजदूर श्रमिक स्पेशल ट्रेनों से बिहार लौट रहे हैं। सरकार और रेल प्रशासन लोगों को सुविधाएं देने का दावा कर रही है लेकिन कटिहार जंक्शन की एक तस्वीर यह दिखाती की हकीकत आखिर क्या है। बुधवार को 04014 श्रमिक स्पेशल ट्रेन नई दिल्ली से प्रवासी मजदूरों को लेकर पूर्णिया जा रही थी। इसी दौरान कटिहार जंक्शन पर ट्रेन थोड़ी देर के लिए रुकी। यहां मजदूरों के लिए खाने के पैकेट और पानी का इंतजाम किया गया था।


ट्रेन रूकते ही मजदूरों ने खाने के पैकेट लेने के लिए लूट मचा दी। स्थिति अफरा-तफरी जैसी हो गई। हालांकि, बाद में किसी तरह रेल प्रशासन ने स्थिति को संभाला। जब हमने एक मजदूर से बात कि तब उसने बताया कि दिल्ली से चले थे तो भोजन का पैकेट और पानी का प्रबंध किया गया था। लेकिन रास्ते में खाना नहीं मिला। इसलिए जोर से भूख लगी थी और भोजन का पैकेट देखते ही लोग उस पर टूट पड़े। कटिहार रेल प्रशासन का कहना है कि यहां लोगों के लिए पूरा इंतजाम किया गया था। लेकिन अचानक से लोग खाने का पैकेट लेने के लिए टूट पड़े। बाद में सभी को खाना और पानी देकर पूर्णिया के लिए रवाना किया गया।



Popular posts
पेरू की पॉपुलर मंत्री / 35 साल की वित्त मंत्री मारिया बनीं स्टार, कोरोना के बीच आम लोगों और छोटे कारोबारियों के लिए रिकवरी पैकेज तैयार करने पर तारीफ मिल रही
शुभ संयोग : गुरु पुष्य नक्षत्र 30 अप्रैल : डॉ हुकुमचंद जैन ज्योतिषाचार्य
Image
अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव / अश्वेतों की नाराजगी भुनाने में जुटे डेमोक्रेटिक उम्मीदवार जो बिडेन, युवाओं को लुभाने के लिए डिजिटल कैंपेन भी चलाएंगे
लोक अभियोजन अधिकारियों की न्याय दिलाने में महत्वपूर्ण भूमिका है - न्यायमूर्ति पाठक
Image
उत्तराखंड के चारधाम / बद्रीनाथ को रोज चढ़ाई जाती है बद्रीतुलसी, यहां के बामणी गांव के लोग बनाते हैं ये माला