तुलसीदास जी के दो शिष्यों के बीच कोरोना वार्तालाप*

*तुलसीदास जी के दो शिष्यों के बीच कोरोना वार्तालाप*


पहला शिष्य :
बाहर निकल भ्रमण जिन कीन्हां।
खाकी-गण दारुन दु:ख दीन्हां।।
लम्ब डण्ड से होत ठुकाई।
करहु नियंत्रण मन पर भाई।।
डाउन लॉक रहहु गृह माहीं।
भ्रमण फिज़ूल करहु तुम नाहीं।।


दूसरा शिष्य :


सत्य सखा तव सुंदर वचना
भेदि न जाइ पुलिस की रचना
खाकीधारी अति बलशाली
मारहि लाठि देहिं बहु गाली
पृष्ठ भाग खलु करहिं प्रहारा
चहूं ओर मचै हाहाकारा
जदपि सखा इच्छा मन माहीं
तदपि कदापि न टहलन जाहीं।


😄😄😄


Popular posts
उत्तराखंड के चारधाम / बद्रीनाथ को रोज चढ़ाई जाती है बद्रीतुलसी, यहां के बामणी गांव के लोग बनाते हैं ये माला
सीमा विवाद पर भारत की दो टूक / अफसरों ने कहा- चीन बॉर्डर से अपने 10 हजार सैनिक और हथियार हटाए, ऐसा होने पर ही पूरी तरह शांति कायम होगी
प्रसिद्ध समाजसेवी डॉ योगेश दुबे मुंबई की राजकुमार सोनी से बातचीत
Image
अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव / अश्वेतों की नाराजगी भुनाने में जुटे डेमोक्रेटिक उम्मीदवार जो बिडेन, युवाओं को लुभाने के लिए डिजिटल कैंपेन भी चलाएंगे
कोरोना इफेक्ट / एमिरेट्स एयरलाइंस ने 600 पायलटों और 6500 केबिन क्रू को निकाला, सितंबर तक कर्मचारियों की सैलरी में 50% कटौती जारी रहेगी