कोरोना को हराने की जिद / ब्रिटेन के 99 साल के पूर्व सैनिक ने 100 कदम चलकर 153 करोड़ रु. जुटाए, दूसरे विश्वयुद्ध के दौरान भारत और म्यांमार में काम किया था

कोरोना को हराने की जिद / ब्रिटेन के 99 साल के पूर्व सैनिक ने 100 कदम चलकर 153 करोड़ रु. जुटाए, दूसरे विश्वयुद्ध के दौरान भारत और म्यांमार में काम किया था




  • टॉम मूर ने अपने सभी मेडल से सजी एक ब्लेजर पहनकर व्हीलचेयर की मदद से 100 कदम चले। इस दौरान उन्होंने 25 मीटर (82 फीट) की दूरी तय की।टॉम मूर ने अपने सभी मेडल से सजी एक ब्लेजर पहनकर व्हीलचेयर की मदद से 100 कदम चले। इस दौरान उन्होंने 25 मीटर (82 फीट) की दूरी तय की।





  • इंग्लिश खिलाड़ियों की चुनौती पूरी करने वाले कैप्टन टॉम मूर 30 अप्रैल को 100 साल के हो जाएंगे

  • दूसरे विश्वयुद्ध में कैप्टन रहे टॉम ने कहा- संकट के बाद छट जाएंगे और नया सूरज फिर उदय होगा




 



लंदन. ब्रिटेन के पूर्व सैनिक टॉम मूर दूसरे विश्व युद्ध के नायक थे। अब मूर 99 साल की उम्र में कोरोनावायरस (कोविड-19) को हराने के लिए आगे आए हैं। उनके जज्बे के आगे युवा भी पस्त हैं। कोरोना को हराने की जिद लिए टॉम ने गॉर्डन में 100 कदम चलकर 16 मिलियन पाउंड (करीब 153 करोड़ रुपए) जुटाए हैं। यह रुपए नेशनल हेल्थ सर्विस (एनएचएस) फंड में जमा होगा। टॉम ने इंग्लैंड के बड़े खिलाड़ियों की चुनौती पर यह दौड़ पूरी की है।


टॉम 30 अप्रैल को ही 100 साल के होने वाले हैं। उन्होंने अपने सभी मेडल से सजे एक ब्लेजर पहनकर व्हीलचेयर की मदद से 100 कदम चले। इस दौरान उन्होंने 25 मीटर (82 फीट) की दूरी तय की। टॉम के साथ उनके परिवार के लोग भी थे।



टॉम को 1 लाख रुपए की ही उम्मीद थी


टॉम का लक्ष्य सिर्फ 1000 पाउंड (करीब 1 लाख रुपए) जुटाने का था, लेकिन उनके प्रशंसकों ने दिल खोलकर दान दिया। चुनौती पूरी करने के बाद टॉम ने कहा, ‘‘मुझे इतनी राशि जमा होने की उम्मीद बिल्कुल भी नहीं थी। आज मुझे गर्व हो रहा है। मैं बहुत अच्छा महसूस कर रहा हूं। उम्मीद है आपको भी बेहतर लग रहा होगा। यह संकट के बाद छट जाएंग और नया सूरज फिर उदय होगा।’’ प्रधानमंत्री बॉरिस जॉनसन ने भी टॉम की तारीफ की।



बर्मा के नाम से भी फेमस हैं टॉम।


टॉम दूसरे विश्व युद्ध में इंग्लैंड की सेना में भर्ती होने से पहले सिविल इंजीनियर थे। इसके बाद उन्हें कैप्टन बनाया गया। दूसरे विश्व युद्ध के दौरान टॉम ने भारत और म्यांमार में भी काम किया था। उन्हें बर्मा के नाम से भी जाना जाता है।


बेन स्टोक्स समेत कई खिलाड़ियों ने चुनौती स्वीकारी
कोरोना के खिलाफ जंग के लिए शुरू हुई इस चुनौती में फुटबॉल क्लब लीवरपूल के कप्तान जॉर्डन हेंडरसन, मैनचेस्टर यूनाइटेड टीम के मार्कस रशफोर्ड, पूर्व टेनिस वर्ल्ड नंबर-1 एंडी मरे, इंग्लैंड रग्बी टीम के कप्तान ओवेन फारेल के अलावा क्रिकेटर बेन स्टोक्स भी शामिल हुए हैं। स्टोक्स पिछले साल वनडे वर्ल्ड कप विजेता टीम के हीरो रहे थे। उन्हें 2019 के लिए विजडन लीडिंग क्रिकेटर ऑफ द ईयर भी चुना गया था।



Popular posts