अपने मरने की भविष्यवाणी कर चर्चा में आए कुंजीलाल की मौत


फोटो - कुंजीलाल



बैतूल. जिले में खुद के मरने की भविष्यवाणी कर चर्चा में आए 90 वर्षीय कुंजीलाल की मौत हो गई है। उनकी अंत्येष्टि शनिवार को उनके पैतृक गांव सेहरा में की जा रही है। कुंजीलाल ने 20 अक्टूबर 2005 को कुंजीलाल ने करवा चौथ के दिन अपनी मौत की भविष्यवाणी की थी।
इस भविष्यवाणी के बाद मशहूर हुए कुंजीलाल की मौत को दिखाने उस समय देश के कई समाचार चैनलों ने 12-12 घंटे लाइव दिखाया था लेकिन कुंजीलाल की उस दिन मौत नही हुई थी। जिसके बाद ये तर्क दिया गया था कि करवा चौथ पर उनकी पत्नी ने उनके लिए लंबी उम्र की दुआ मां ली थी। इसलिए उनकी मौत नही हुई।
कुंजीलाल की इसी कहानी पर बाद में उनके गांव सेहरा के करीबी गांव पिपला के नाम पर पिपली लाइव ?िल्म भी बनाई गई थी। जिसमे कर्ज से परेशान किसान नत्था ने अपनी ही मौत की भविष्यवाणी की थी। इस फिल्म  के सामने आने के बाद कुंजीलाल ने फिल्म  की डायरेक्टर और निर्माता आमिर खान और अनुषा रिजवी को नोटिस भेजकर उनकी कहानी पर फिल्म  बनाने पर आपत्ति ली थी। हालांकि इस नोटिस पर ज्यादा कुछ नही हो सका था।
20 अक्टूबर 1930 को जन्मे कुंजीलाल बैतूल जिले के सेहरा गांव के रहने वाले थे और वह अपने पूर्वजों के दिए पांसे और रमल विद्या के जरिए भविष्यवाणी किया करते थे। उनकी इस विद्या के चलते दूर दूर से लोग उनके पास भविष्य जानने आया करते थे। खास बात ये है कि 2005 में भविष्यवाणी के इस ड्रामे के कई चैनल्स ने 24 घंटे तक लाइव किया था। 


Popular posts
उत्तराखंड के चारधाम / बद्रीनाथ को रोज चढ़ाई जाती है बद्रीतुलसी, यहां के बामणी गांव के लोग बनाते हैं ये माला
कोरोना इफेक्ट / एमिरेट्स एयरलाइंस ने 600 पायलटों और 6500 केबिन क्रू को निकाला, सितंबर तक कर्मचारियों की सैलरी में 50% कटौती जारी रहेगी
प्रसिद्ध समाजसेवी डॉ योगेश दुबे मुंबई की राजकुमार सोनी से बातचीत
Image
IIT गांधीनगर की रिसर्च / भारत में नाले के गंदे पानी में कोरोनावायरस होने के प्रमाण मिले, देश में इस तरह की यह पहली रिसर्च हुई
अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव / अश्वेतों की नाराजगी भुनाने में जुटे डेमोक्रेटिक उम्मीदवार जो बिडेन, युवाओं को लुभाने के लिए डिजिटल कैंपेन भी चलाएंगे