स्ट्रेचर के इंतजार में तड़पती रही महिला, उठाकर ले जाने तक हो गई मौत

नरसिंहपुर। अस्पताल की लचर स्वास्थ्य व्यवस्था के कारण एक महिला की मौत हो गई। परिजन एंबुलेंस से मरीजों को हाथ में उठाकर ले जाने के लिए विवश हैं। इसीस्थिति की वजह से एक मरीज की मौत हो गई। जिला अस्पताल की इसी लचर व्यवस्था की शिकार एक महिला हो गई। रविवार को जब तेंदूखेड़ा की एक महिला मरीज को गंभीर हालत में जिला अस्पताल लाया गया तो स्ट्रेचर और वार्डबॉय नहीं मिला। स्ट्रेचर के इंतजार में महिला मरीज तड़पती रही। आखिरकार परिजनों ने अपने हाथों पर महिला मरीज को उठाकर डॉक्टर तक पहुंचे, तब तक देर हो चुकी थी। डॉक्टरों ने महिला मरीज को मृत घोषित कर दिया। ये कोई पहला मामला नहीं बल्कि यहां तो मामलों की अंबार है। रात में जिला अस्पताल में वार्ड बॉय न मिलने के चलते 108 से आए मरीज को उनके परिजन ही व्हीलचेयर पर ड्यूटी पर तैनात डॉक्टर के पास ले जाने को मजबूर हुए। ऐसे हालात में 108 कर्मी भी परेशान हैं पर स्वास्थ्य विभाग का सिस्टम सुधरने का नाम नहीं ले रहा। जब सारे मामले को लेकर ड्यूटी डॉक्टर से बात की तो वे सिविल सर्जन से बात करने की बात कहते नजर आए। वक्त के बदलाव के साथ सरकार जरूर बदल गई पर नहीं बदला तो सरकारी सिस्टम और इस सिस्टम का खामियाजा उस आम जनता को ही भुगतना पड़ रहा है, जिसने बहुत ही उम्मीद से पिछली सरकार की सत्ता से बेदखल किया था।


Popular posts
उत्तराखंड के चारधाम / बद्रीनाथ को रोज चढ़ाई जाती है बद्रीतुलसी, यहां के बामणी गांव के लोग बनाते हैं ये माला
कोरोना इफेक्ट / एमिरेट्स एयरलाइंस ने 600 पायलटों और 6500 केबिन क्रू को निकाला, सितंबर तक कर्मचारियों की सैलरी में 50% कटौती जारी रहेगी
प्रसिद्ध समाजसेवी डॉ योगेश दुबे मुंबई की राजकुमार सोनी से बातचीत
Image
IIT गांधीनगर की रिसर्च / भारत में नाले के गंदे पानी में कोरोनावायरस होने के प्रमाण मिले, देश में इस तरह की यह पहली रिसर्च हुई
अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव / अश्वेतों की नाराजगी भुनाने में जुटे डेमोक्रेटिक उम्मीदवार जो बिडेन, युवाओं को लुभाने के लिए डिजिटल कैंपेन भी चलाएंगे