धार जिले में 11 हजार लोग हो गए जाति से बाहर!

जरा सी चूक

-छिन जाएंगी सरकारी सुविधाएं
धार। जिले में प्रशासनिक चूक और अज्ञानता की वजह से हजारों लोगों की जाति ही बदल गई। यहां एक अक्षर के फेर से हजारों लोग अनुसूचित जनजाति से अनुसूचित जाति के हो गए हैं। लोग परेशान हैं कि जाति बदलने के कारण उन्हें योजनाओं का लाभ नहीं मिल पा रहा। धार जिले में महज एक अक्षर के फेर में 29 गांव के 11 हजार लोग अनुसूचित जनजाति (एसटी) से अनुसूचित जाति (एससी) हो गए। बदनावर तहसील में मोगिया समाज के लोग रहते हैं। बदनावर प्रशासन लोगों को मोगिया की जगह मोघिया लिखकर जाति प्रमाण पत्र दे रहा हंै। इस एक घ अक्षर की वजह से लोगों की जाति बदल गई। इसका नतीजा ये हुआ कि अनुसूचित जाति यानी एसटी वर्ग के ये लोग अब एससी वर्ग के हो गए और यही वजह है कि स्कूली बच्चों और उनके परिवार को एसटी वर्ग के लिए मिलने वाली सरकारी योजनाओं का लाभ बंद हो गया।


प्रशासन अपने फैसले पर कायम
बदनावर की एसडीएम नेहा साहू का कहना है कि ये लोग मोगिया समाज में नहीं आते हैं, इसलिए इन्हें अनुसूचित जनजाति का जाति प्रमाण पत्र नहीं दिया जा सकता। इस इलाके में मोगिया समाज की आबादी 22 हजार है। इनमें 5000 लोग शिक्षित हैं। अब तक इस आबादी को यहां अनुसूचित जनजाति आदिवासी वर्ग के जाति प्रमाण पत्र जारी किए जाते रहे हैं। लेकिन अब नई पीढ़ी को अपने पुरखों की जाति से अलग कर दिया गया है। नई पीढ़ी के प्रमाण पत्र में जाति बदली जा रही है।


Popular posts
उत्तराखंड के चारधाम / बद्रीनाथ को रोज चढ़ाई जाती है बद्रीतुलसी, यहां के बामणी गांव के लोग बनाते हैं ये माला
कोरोना इफेक्ट / एमिरेट्स एयरलाइंस ने 600 पायलटों और 6500 केबिन क्रू को निकाला, सितंबर तक कर्मचारियों की सैलरी में 50% कटौती जारी रहेगी
प्रसिद्ध समाजसेवी डॉ योगेश दुबे मुंबई की राजकुमार सोनी से बातचीत
Image
IIT गांधीनगर की रिसर्च / भारत में नाले के गंदे पानी में कोरोनावायरस होने के प्रमाण मिले, देश में इस तरह की यह पहली रिसर्च हुई
अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव / अश्वेतों की नाराजगी भुनाने में जुटे डेमोक्रेटिक उम्मीदवार जो बिडेन, युवाओं को लुभाने के लिए डिजिटल कैंपेन भी चलाएंगे