आठ हजार से ज्यादा मृतकों को दे रहे थे पेंशन

भोपाल। प्रदेश में डेढ़ साल से चल रहे पेंशन हितग्राहियों के सत्यापन के दौरान लगभग 11 हजार अपात्र पेंशन हितग्राही मिले हैं। इनमें से 8026 को तो सरकार उनकी मौत के बाद भी पेंशन दे रही है। इसी तरह 1882 हितग्राही गांव छोड़कर जा चुके हैं, फिर भी उनकी पेंशन बंट रही है। सरकार ने कलेक्टरों को अपात्र हितग्राहियों की पेंशन रोकने के निर्देश दिए हैं। हितग्राहियों को वर्तमान में 600 रुपए महीना पेंशन दी जा रही है।


उल्लेखनीय है कि प्रदेश में 42 लाख 59 हजार से ज्यादा पेंशन हितग्राही हैं। जनवरी 2018 से प्रदेश में इन हितग्राहियों का सत्यापन किया जा रहा है और अब तक एक लाख 87 हजार 794 का सत्यापन हो सका है। इनमें से करीब 10 हजार अपात्र पाए गए हैं। सामाजिक न्याय एवं नि:श्ाक्तजन कल्याण विभाग ने अपात्रों की पेंशन बंद करने के साथ शेष हितग्राहियों का सत्यापन जल्द करने के भी निर्देश दिए हैं।


चुनाव के कारण अटका सत्यापन
सामाजिक न्याय विभाग ने जनवरी 2018 में सत्यापन शुरू किया था, लेकिन मैदानी स्तर पर निर्देशों को ज्यादा तवज्जो नहीं दी गई। इसलिए विभाग ने करीब पांच बार सत्यापन करने के आदेश जारी किए। इस बीच विधानसभा और लोकसभा चुनाव आ गए। इस कारण सत्यापन की प्रक्रिया रोक दी गई थी। अब नए सिरे से सत्यापन शुरू किया जा रहा है।


चेतावनी, पात्र हितग्राहियों की पेंशन बंद न हो
सरकार ने पेंशन प्रक्रिया से जुड़े मैदानी कर्मचारियों (सचिव ग्राम पंचायत, वार्ड प्रभारी, जनपद पंचायत एवं नगरीय निकायों के अधिकारियों) को चेतावनी दी है कि वे सत्यापन में सावधानी बरतें। यदि किसी पात्र हितग्राही की पेंशन बंद होती है तो वे सीधेतौर पर जिम्मेदार होंगे और इसके लिए उन्हें दंडित भी किया जाएगा।


40 लाख से ज्यादा का सत्यापन
अभी 40 लाख से ज्यादा हितग्राहियों का सत्यापन कराया जाना है। अभी तक एक लाख 87 हजार 794 हितग्राहियों का सत्यापन हुआ है। इसमें 8026 मृत के अलावा 1060 अपात्र पाए गए हैं। 1882 हितग्राही गांव से पलायन कर चुके हैं।


Popular posts
उत्तराखंड के चारधाम / बद्रीनाथ को रोज चढ़ाई जाती है बद्रीतुलसी, यहां के बामणी गांव के लोग बनाते हैं ये माला
कोरोना इफेक्ट / एमिरेट्स एयरलाइंस ने 600 पायलटों और 6500 केबिन क्रू को निकाला, सितंबर तक कर्मचारियों की सैलरी में 50% कटौती जारी रहेगी
प्रसिद्ध समाजसेवी डॉ योगेश दुबे मुंबई की राजकुमार सोनी से बातचीत
Image
IIT गांधीनगर की रिसर्च / भारत में नाले के गंदे पानी में कोरोनावायरस होने के प्रमाण मिले, देश में इस तरह की यह पहली रिसर्च हुई
अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव / अश्वेतों की नाराजगी भुनाने में जुटे डेमोक्रेटिक उम्मीदवार जो बिडेन, युवाओं को लुभाने के लिए डिजिटल कैंपेन भी चलाएंगे