गुजरात / इन दो मासूमों की कहानी इतनी दर्दनाक है कि इसे कोई शीर्षक दे पाना संभव नहीं था, आप खुद पढ़ लें

गुजरात / इन दो मासूमों की कहानी इतनी दर्दनाक है कि इसे कोई शीर्षक दे पाना संभव नहीं था, आप खुद पढ़ लें...





बनासकांठा जिले की भाभर तहसील के मेरा गांव में यह बच्चा पुलिस को इसी हालत में मिला। इसकी मौत हो चुकी थी।





 

अहमदाबाद. इन दो मासूमों की कहानी इतनी दर्दनाक है कि इन्हें हेडलाइन में लिखना संभव नहीं था। खबर में लिखने का साहस भी बड़ी मुश्किल से जुटा पाए।


पहली घटना: ऊपर प्रणाम की मुद्रा में दिख रहा मासूम गुजरात के बनासकांठा जिले में भाभर तहसील के मेरा गांव का है। यह राहगीरों को लावारिस हालत में मिला। सूचना मिलने पर मौके पर पहुंची पुलिस ने पाया कि बच्चा जिंदा नहीं है। 45 डिग्री की गर्मी के बीच कोई इसे यहां छोड़ गया था। पुलिस ने बच्चे को फेंकने वाले अज्ञात व्यक्ति के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। आसपास पता लगाया जा रहा है कि प्रसव कहां-कहां हुआ है।


दूसरी घटना: लॉकडाउन के सन्नाटे के बीच सूरत के सलाबतपुरा क्षेत्र में सोमवार सुबह निर्दयी पिता ने अपनी 9 महीने की बेटी को मार डाला। पिता उवेश हसन शेख अपनी नींद में खलल पड़ने से इतना खफा हुआ कि उसने मासूम बेटी के सिर, सीने पर मुक्के मारे, फिर जमीन पर पटककर हत्या कर दी। पुलिस ने उसे हिरासत में ले लिया है।



Popular posts
सीमा विवाद पर भारत की दो टूक / अफसरों ने कहा- चीन बॉर्डर से अपने 10 हजार सैनिक और हथियार हटाए, ऐसा होने पर ही पूरी तरह शांति कायम होगी
सीमा पर तनाव घटा / पूर्वी लद्दाख में गालवन इलाके से चीन ने सेना और बख्तरबंद गाड़ियां ढाई किमी पीछे बुलाईं, भारत ने भी जवान कम किए
टेबल टेनिस / शरत कमल ने कहा- टोक्यो ओलिंपिक में सिंगल्स में मेडल जीतना मुश्किल, पर डबल्स में मौका
Image
सिंधिया परिवार में कोरोना / ज्योतिरादित्य और उनकी मां कोरोना पॉजिटिव, दिल्ली के अस्पताल में भर्ती; परिवार के तीन सदस्यों की रिपोर्ट निगेटिव आई
IIT गांधीनगर की रिसर्च / भारत में नाले के गंदे पानी में कोरोनावायरस होने के प्रमाण मिले, देश में इस तरह की यह पहली रिसर्च हुई