दो बोरी यूरिया खाद के लिए राजगढ़ जिले में अलसुबह कतार में लगे किसान

भ्याना (राजग)। प्रदेशभर में इस समय यूरिया की किल्लत बनी हुई है। मध्यप्रदेश के विभिन्न जिलों में किसानों को दिनभर खाद के लिए मशक्कत करते देखा जा सकता है। जिम्मेदारों के तमाम दावों के बावजूद किसानों को पर्याप्त खाद नहीं मिल पा रहा है। प्रदेश के राजगढ़ जिले में भ्याना की सहकारी सोसायटी में 15 दिन बाद एक हजार बोरी यूरिया पहुंचा तो लेने के लिए किसानों का हुजूम उमड़ पड़ा।


किसान अलसुबह से कतार बनाकर खड़े हो गए थे
दो बोरी खाद लेने के लिए किसान अलसुबह से कतार बनाकर खड़े हो गए थे। दरअसल भ्याना सोसायटी में खाद पचोर मप्र विपणन संघ गोडाउन से आता है लेकिन 15 दिन से खाद सप्लाई नहीं किया गया। इससे यह हालात निर्मित हुए हैं।


समय पर खाद नहीं मिलने से फसल को हुआ नुकसान
किसानों का कहना है कि समय पर खाद नहीं मिलने और फसल को पानी देने से कई जगह गेहूं को भारी नुकसान पहुंचा है। सोयायटी में पहुंचे यूरिया को कर्मचारियों ने किसानों को टोकन देकर दो-दो बोरी के हिसाब से बांटा।


40 टन की और जरूरत
सहकारी सोसायटी भ्याना के सहायक सचिव मो?सिंह तोमर ने इस संबंध में जानकारी देते हुए बताया कि हमारे यह 2200 किसान पंजीकृत हैं। लंबे अंतराल के बाद सोसायटी को एक हजार बोरी यूरिया मिला तो किसानों की भी? लग गई, क्योंकि सभी को इस समय यूरिया की जरूरत है। अभी तक हमें 207 टन नौ क्विंटल यूरिया मिला है, जिसे वितरित कर चुके हैं। अब 40 टन की और जरूरत है।


Popular posts
लॉकडाउन में घर में घुस कर मध्यप्रदेश में नेत्रहीन महिला अधिकारी से रेप, परिजन दूसरे राज्य में फंसे 
उत्तराखंड के चारधाम / बद्रीनाथ को रोज चढ़ाई जाती है बद्रीतुलसी, यहां के बामणी गांव के लोग बनाते हैं ये माला
कोरोना इफेक्ट / एमिरेट्स एयरलाइंस ने 600 पायलटों और 6500 केबिन क्रू को निकाला, सितंबर तक कर्मचारियों की सैलरी में 50% कटौती जारी रहेगी
प्रसिद्ध समाजसेवी डॉ योगेश दुबे मुंबई की राजकुमार सोनी से बातचीत
Image
IIT गांधीनगर की रिसर्च / भारत में नाले के गंदे पानी में कोरोनावायरस होने के प्रमाण मिले, देश में इस तरह की यह पहली रिसर्च हुई